जानें अपने ब्यूटी रूटीन को कैसे ईको फ़्रेंड्ली बनाया जा सकता है

Written by Suman SharmaAug 04, 2022
जानें अपने ब्यूटी रूटीन को कैसे ईको फ़्रेंड्ली बनाया जा सकता है

बिना सोच-विचार के बेस्ट सेल्फ केयर रेजीम अधूरी है. और विचार से हमारा मतलब है, क्या आपके प्रोडक्ट ऐसे ब्रांड से हैं जो नेचुरल हों और पर्यावरण को नुक़सान न पहुंचाने को प्राथमिकता देते हैं? क्या आप बिना किसी कारण के बेवजह ही ढेर सारे प्रोडक्ट्स पैक करा लेती हैं? या ऐसे प्रोडक्ट्स ख़रीद रही हैं जो ऐनिमल क्रूएल्टी का समर्थन करते हैं. अगर आपखुद से ये सवाल नहीं करतीं तो बहुत हद तक सम्भव है कि आपका ब्यूटी रूटीन बेहद टॉक्सिक है. इस साल यानी 2022 में इन सवालों को आपको टालना नहीं चाहिए और बिना रिसर्च के ख़रीदारी नहीं करनी चाहिए. और इसीलिए हमने 4 सवालों की एक लिस्ट तैयार की है जो आपको एक नया प्रोडक्ट खरीदने से पहले खुद से पूछने चाहिए.

 

क्या इनमें मौजूद सामग्री प्राकृतिक, नैतिक रूप से सोर्स की गई और क्रूरता-मुक्त यानी क्रूएल्टी फ्री है?

आप जिस ब्रांड से खरीदारी कर रहे हैं, क्या उसके कुछ लक्ष्य हैं? अगर हां, तो वो क्या, किस तरह के और कितने समय के लिए हैं?

किसी ब्रांड से खरीदने से पहले खुद से आपको ये कुछ प्रश्न ज़रूर पूछने चाहिए. क्या वे जानवरों पर अपने प्रोडक्ट्स कापरीक्षण कर रहे हैं? क्या वे सामग्री यानी इंग्रेडिएंट्स पाने के लिए लोकल ईको सिस्टम को नुक़सान पहुंचा रहे हैं? एकब्रांड जिसके पास इन सभी का सही उत्तर है, वह है सिंपल. ये एक सोच व फ़िलॉसोफी पर काम करता है: त्वचा, धरतीऔर जानवरों के प्रति उदारता. उनके प्रोडक्ट्स में कोई आर्टिफ़िशियल सुगंध, रंग, हार्श केमिकल्स या पैराबेंस नहीं होते हैं. वे पेटा द्वारा सर्टिफ़ायड क्रूएल्टी फ्री भी हैं. और वे लगातार रिसाइकल करने योग्य पैकेजिंग विकल्पों और पर्यावरण को नुक़सान न पहुंचाने वाले हों ऐसे पदार्थों से सोर्स किए गए कार्टन और इंग्रेडिएंट्स की तलाश में रहते हैं. Love, Beauty and Planet एक अन्य पेटा-सर्टिफ़ायड वीगन और क्रूरता-मुक्त ब्रांड है. यह ब्रांड नैतिक रूप से अपने इंग्रेडिएंट्स का स्रोत बनाता है- एक उदाहरण- फिलीपींस से नैतिक रूप से सोर्स किए गए नारियल पानी को Love, Beauty and Planet Hydrating Coconut Water and Mimosa Flower Body Lotion में शामिल किया गया है. उनके कई लक्ष्यों में से एक ये भी है कि वो 2030 तक अपने प्रोडक्ट से जुड़े उत्सर्जन यानी एमिशन को ज़ीरो तक करने का प्रयासकर रहे हैं. कोई भी प्रोडक्ट ख़रीदने से पहले इन बातों पर ग़ौर ज़रूर करें.

 

ब्रांड किस तरह की पैकेजिंग का उपयोग करता है?

आप जिस ब्रांड से खरीदारी कर रहे हैं, क्या उसके कुछ लक्ष्य हैं? अगर हां, तो वो क्या, किस तरह के और कितने समय के लिए हैं?

उन ब्रांड्स को ज़रूर सपोर्ट करना चाहिए जो अपने प्रोडक्ट्स में ऐसे इंग्रेडिएंट्स को शामिल करने पर विचार कर रहे हैं जो कि पर्यावरण के लिए सुरक्षित  हों. और इसमें कोई सोचने की बात नहीं है कि पैकेजिंग की इसमें महत्वपूर्ण भूमिका है, क्योंकि वो भी ईको फ़्रेंड्ली होनी ज़रूरी है. ऐसे पैकेजिंग पर फ़ोकस करने वाला एक ब्रांड है Love, Beauty and Planet.  ये ब्रांड प्लास्टिक वेस्ट से रिसाइकल्ड बॉटल्स बनाकर उनमें आकर्षक महक वाले शैंपू, कंडीशनर और लोशनको फ़िल करता है. और आप भी प्रोडक्ट यूज़ करने के बाद बोतलों को रिसाइकल कर सकती हैं.

 

क्या आपने बहुत ज़्यादा प्रोडक्ट्स को भर रखा है?

आप जिस ब्रांड से खरीदारी कर रहे हैं, क्या उसके कुछ लक्ष्य हैं? अगर हां, तो वो क्या, किस तरह के और कितने समय के लिए हैं?

भले ही हम में से कई लोग लिपस्टिक, हाइलाइटर, सीरम और अनगिनत अन्य मेकअप और स्किनकेयर प्रोडक्ट्स के साथएक पूरा भंडार एक साथ रखना पसंद करते हैं, फिर भी हमें अपने पास मौजूद चीजों के उपयोग पर ध्यान देना चाहिए. इससे वेस्टेज कम होता है. इसके बाद आप मल्टीपर्पस प्रोडक्ट्स ख़रीदने की कोशिश करें जो एक साथ आपको कई बेनीफिट्स देते हैं, उन प्रोडक्ट में पैसे बर्बाद करने से तो ये बेहतर विकल्प है जो सिर्फ़ आपकी एक ही ज़रूरत को पूरा करतेहैं.

 

आप जिस ब्रांड से खरीदारी कर रहे हैं, क्या उसके कुछ लक्ष्य हैं? अगर हां, तो वो क्या, किस तरह के और कितने समय के लिए हैं?

आप जिस ब्रांड से खरीदारी कर रहे हैं, क्या उसके कुछ लक्ष्य हैं? अगर हां, तो वो क्या, किस तरह के और कितने समय के लिए हैं?

क्या वो वाक़ई शोध करने में लगे हैं या फिर ये मात्र एक दिखावा है ताकि वो अपनी ईको फ़्रेंड्ली इमेज बनाकर खुद कोस्थापित कर सकें. इसे एक उदाहरण के साथ बेहतर तरीक़े से समझते हैं- Love, Beauty and Planet को लें, उनकालक्ष्य 2030 तक अपने प्रोडक्ट्स से जुड़े एमिशन को जीरो तक करना है. वे हमारे कार्बन टैक्स डॉलर को नेचर बेस्ड यानी प्राकृतिक समाधानों की तरफ़ ले जाने का प्रयास करते हैं, ताकि भूमि, जंगलों और महासागरों की रक्षा और पुनर्निर्माण हो सके. यह उनके कई अन्य लक्ष्यों में से एक है. इसलिए ख़रीदने से पहले ऐसे ब्रांड्स पर ध्यान दें जिनके ऐसे ही लॉन्ग-टर्म प्लांस हों.

Suman Sharma

Written by

Author at BeBeautiful
1548 views

Shop This Story

Looking for something else