जब से लॉकडाउन शुरू हुआ है, हमारी ज़िंदगी घर की चार दीवारी में क़ैद होकर रह गई है। चूंकि हम कहीं बाहर जा नहीं सकते, इसलिए अधिकतर समय लैपटॉप या मोबाइल की स्क्रीन के सामने गुज़ार देते हैं। ऐसे में सूर्य की किरणें हम तक ना के बराबर पहुंच पाती हैं, नतीज़ा- सेहत पर असर। रोज़ाना हमें जो विटामिन डी मिलनी चाहिए, वो नहीं मिल पाती और हमारे शरीर में इसकी कमी हो जाती है।

हालांकि, हम में से कुछ लोगों ने थोड़ी हिम्मत करके मॉर्निंग वॉक की शुरुआत की है, लेकिन इससे पर्याप्त विटामिन डी शरीर को नहीं मिल पाता। ख़ैर, ऐसे भी तरीके हैं, जिन्हें अपनाकर आप विटामिन डी का स्तर बढ़ा सकते हैं। आइये, जानते हैं, क्या हैं वो तरीक़े।

 

त्वचा और बालों की सेहत के लिए क्यों ज़रूरी है विटामिन डी

त्वचा और बालों की सेहत के लिए क्यों ज़रूरी है विटामिन डी

विटामिन डी न सिर्फ़ आपकी हड्डियों को मज़बूत और स्वस्थ बनाता है, बल्कि यह बालों और त्वचा की सेहत को भी मेंटेन करता है। यह आपके इम्यून सिस्टम को स्ट्रॉंग बनाता है, जिससे घाव जल्दी भर जाता है और बालों की ग्रोथ भी बढ़ती है। विटामिन डी की कमी से स्किन ड्राय हो जाती है, घाव भरने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है, बाल झड़ने लगते हैं और कुछ मामलों में तो सोरायसिस भी होने की संभावना होती है। विटामिन डी मूड और स्ट्रेस लेवल को भी मेंटेन करता है। यह स्ट्रेस के कारण झड़ते बाल और एलोपेसिया को भी कंट्रोल करता है। इसलिए शरीर को विटामिन डी पर्याप्त मात्रा में मिले यह बहुत ज़रूरी है, ताकि बाल और स्किन दोनों की सेहत बनी रहे।

how to boost vitamin d levels during the lockdown

01. सूर्य की पर्याप्त रोशनी लें

सुबह-सुबह की नींद सबको प्यारी होती है, लेकिन सेहत के लिए सुबह की नींद में थोड़ी कटौती करें और इस समय को सेहत के लिए ख़र्च करें। कम से कम हफ़्ते में तीन बार सुबह की धूप का सेवन करें। इसके लिए सुबह का सबसे सही समय है 7 से 11 के बीच का। इस समय अपने शरीर का 40% भाग करीब 30 मिनट तक डायरेक्ट धूप के संपर्क में रखना चाहिए ।

ध्यान रहे कि धूप से आपकी स्किन डैमेज न हो इसके लिए सनस्क्रीन लगाएं

02. विटामिन डी युक्त खाना खाएं

शरीर में विटामिन डी का स्तर बनाए रखने के लिए ज़रूरी है कि आप अच्छी डायट लें। हम आपको बता रहे हैं, ऐसे भोजन के बारे में जो विटामिन डी से भरपूर हैं।

अंडे की ज़र्दी- कई लोग अंडे के अंदर के पीले भाग यानि अंडे कि जर्दी को इसलिए नहीं खाते कि वो शरीर में फैट की मात्रा बढ़ता है। लेकिन कभी-कभे यह खा भी लेना चाहिए, क्योंकि यह गुणों से भरपूर है। इसमें कई तरह के पोषक तत्व होते हैं, जिनमे से विटामिन डी एक है।

मशरूम- यह विटामिन डी का एक बेहतरीन सोर्स है।

दूध- चूंकि दूध में विटामिन डी प्राकृतिक रूप से मौजूद नहीं होता, कई कंपनियां इसमें विटामिन डी मिलाती हैं, क्योंकि इसके माध्यम से शरीर को विटामिन डी आसानी से मिल जाता है। यदि आपको लैक्टोज़ से एलर्जी है तो आप सोया या बादाम का दूध भी पी सकते हैं।

फैटी फिश- सरडाइन्स और सालमन फिश विटामिन डी का बहुत बढ़िया सोर्स है।

 

03. विटामिन डी सप्लिमेंट्स लें

03. विटामिन डी सप्लिमेंट्स लें

विटामिन डी 3 सप्लिमेंट्स फैट में घुलनशील होते हैं, इसलिए इन्हें भोजन के साथ लिया जा सकता है। यदि आप इन्हें हाई फैट फूड्स के साथ लेते हैं तो यह ब्लड में आसानी से घुल जाता है। आप इसे दूध में घोल कर भी पी सकते हैं।