कहीं आपके एक्ने का कारण क्रीम ब्लश तो नहीं ज़रा खुद को आईने में देखें, गालों पर ब्लश, चेहरे को फ्रेम करती हुई चोटियाँ और आपके ट्रेडमार्क ब्राउन लिप्स। लेकिन कुछ पल के बाद आप अपने लुक को फिर से रीक्रिएट करने से बचते हैं। कारण... एक्ने। यहीं सारा मामला गड़बड़ हो जाता है। लेकिन फिक्र न करें, क्योंकि हम हैं यहां आपकी मदद के लिए और ये जानने के लिए कि अचानक एक्ने आने का कारण क्या है? कहीं आपने गालों पर क्रीम-बेस्ड ब्लश तो नहीं लगाया ? यदि ऐसा है, तो आपको ये लेख जरूर पढ़ना चाहिए। घबराइए नहीं, हम आपको आपका फेवरेट ब्लश फेंकने के लिए नहीं कह रहे हैं।

 

क्या क्रीम ब्लश से एक्ने होते हैं?

क्या क्रीम ब्लश से एक्ने होते हैं?

आपने शायद ब्लश लगाते समय ब्लश में मौजूद इनग्रेडिएंट्स को चेक नहीं किया होगा। यह सच है कि बहुत सारे ब्लश कॉमेडोजेनिक (प्रोडक्ट्स जो पोर्स को क्लॉग कर देते हैं) होते हैं। और क्लॉग्ड पोर्स से क्या होता है? एक्ने…! वास्तव में होता यह है कि इस तरह का फॉर्मूला आपकी स्किन में अच्छी तरह से ब्लेन्ड हो जाता है। यह सुनने में जरूर आपको अच्छा लग रहा होगा, लेकिन यह आपके चेहरे के लिए ठीक नहीं है।

हम ये नहीं कह रहे हैं कि सिर्फ एक प्रोडक्ट आपकी स्किन पर आए एक्ने के लिए जिम्मेदार है। एक्ने एक कॉम्पलिकेटेड कंडीशन है और इसके होने के पीछे कई कारण हैं, जैसे- जेनेटिक्स, हॉर्मोन्स, डेड सेल्स का जमा होना, बैक्टीरिया की ग्रोथ, जलन आदि। आपकी स्किन इससे बची रहे इसके लिए आपको ध्यान ये रखना है कि आप जो भी मेकअप प्रोडक्ट चुनें, सही चुनें।

 

 

क्रीम-बेस्ड ब्लश चुनने के लिए किन बातों को रखें खयाल?

क्रीम-बेस्ड ब्लश चुनने के लिए किन बातों को रखें खयाल?

आपको ऐसे ब्लश देखने चाहिए, जिस पर नॉन-कॉमेडोजेनिक लिखा हो। यदि आपकी स्किन एक्ने प्रोन है तो चेहरे को धोने का खयाल जरूर रखें। अपने ब्रश को क्लीन रखें और अपनी स्किन टाइप के अनुसार खास एक्ने के लिए ट्रीटमेंट्स लें। अपने चेहरे को छूने से पहले हाथ धो लें, खासतौर पर तब, जब आप उंगलियों से प्रोडक्ट को स्किन में ब्लेन्ड कर रहे हों। ऐसे प्रोडक्ट्स को अवॉइड करें, जिसमें कोकोनट, फ्लैक्ससीड्स, पाम और सोयाबीन ऑयल हो, क्योंकि ये पोर्स को क्लॉग कर सकते हैं, जिससे स्किन पर एक्ने की संभावना बढ़ जाती है।

 

क्या पाउडर-बेस्ड फॉर्मूला स्किन के लिए सुरक्षित है?

क्या पाउडर-बेस्ड फॉर्मूला स्किन के लिए सुरक्षित है?

यह प्रश्न बिल्कुल वाजिब है। लेकिन ऐसा नहीं है, क्योंकि यह प्रोडक्ट के फॉर्म्युलेशन पर निर्भर करता है। यहां तक कि पाउडर-बेस्ड ब्लश में भी कॉमेडोजेनिक इनग्रेडिएंट्स हो सकते हैं। कहने का मतलब है कि आप चाहे कोई भी फॉर्मूला या टेक्सचर चुनें, आपको रिसर्च जरूर करना चाहिए और ये देखना चाहिए कि उस प्रोडक्ट में किस तरह के इनग्रेडिएंट्स शामिल हैं। 

इस बात को ध्यान में रखें कि पाउडर-बेस्ड फॉर्म्युलेशन ऑयली स्किन के लिए ज्यादा बेहतर है। ये पाउडर स्किन से अतिरिक्त ऑयल को एब्ज़ोर्ब कर लेता है। लेकिन यदि आपकी स्किन ड्राय है, तो आपके लिए क्रीमी फॉर्म्युलेशन ज्यादा बेहतर है, क्योंकि पाउडर वाला ब्लश आपकी स्किन को और ड्राय बना सकता है।