चेहरे से डेड स्किन सेल्स हटाने के लिए हम केमिकल एक्सफोलिएंट्स यूज़ करते हैं। लेकिन जब बात आती है बॉडी की तो हम अभी भी पुराने जमाने से चली आ रही चीज़ों को ही अपनाते हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि एएचए और बीएचए युक्त प्रॉडक्ट्स थोड़े महंगे हो सकते हैं, इसलिए बजट को देखते हुए वो बॉडी के लिए नमक और शक्कर (सॉल्ट और शुगर ) पर निर्भर रहते हैं। किचन में मौजूद ये सामग्री को आप घर पर ही कुछ चीज़ों के साथ मिलाकर बॉडी को एक्सफोलिएट करने के लिए यूज़ कर सकते हैं। लेकिन इन दोनों में आखिर फ़र्क क्या है? आइए, जानते हैं इस बारे में।

नमक या शक्कर स्क्रब: जानें क्या है दोनों में फ़र्क और कौनसा है बेहतर


नमक का स्क्रब (सॉल्ट स्क्रब )

नमक और शक्कर में से नामक को स्क्रब के रूप में ज़्याद इस्तेमाल किया जाता है। नमक में मिनरल और एंटी-इन्फलेमेट्री और डिटॉक्सीफाइंग गुण होते हैं। इनमें मैग्नेशियम, कैल्शियम, पोटेशियम, आयरन और विटामिन ए व सी होता है। हालांकि, नमक के दाने बड़े होते हैं और इसे स्किन पर घिसना भी आसान होता है। इसका उपयोग शरीर के उन एरिया पर किया जाता है, जहां त्वचा अधिक रूखी होती है जैसे घुटने, पैर, कोहनी और पैर।

शक्कर या चीनी का स्क्रब (शुगर स्क्रब )

शक्कर के स्क्रब को अक्सर नेचुरल और फैटी ऑयल्स के साथ जोड़ा जाता है। ये काफी हाइड्रेटिंग होते हैं। जब शक्कर को नारियल के तेल के साथ मिलाकर लगाया जाता है, तो यह एक बेहतरीन एक्सफोलिएटर का काम करता है। बॉडी को एक्सफोलिएट करने के लिए यह तरीका काफी चलन में है। यह स्किन को एक्सफोलिएट करने के साथ त्वचा में नमी लौटाने के लिए एक ह्यूमेक्टेंट के रूप में कार्य करता है। शक्कर के कण आकार में एक समान और छोटे होते हैं, इस तरह यह आपकी त्वचा पर नमक के स्क्रब की तुलना में अधिक कोमल होते हैं। शक्कर के स्क्रब के अधिक उपयोग से एक नुकसान भी होता है, वो यह कि इसमें मौजूद ग्लाइकेटेड प्रोटीन आपकी त्वचा पर जमा हो सकते हैं और उम्र बढ़ने के संकेत दे सकते हैं। यही कारण है कि नमक और चीनी दोनों तरह के स्क्रब को सप्ताह में एक या दो बार इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है।

 

नमक या शक्कर स्क्रब: जानें क्या है दोनों में फ़र्क और कौनसा है बेहतर

अपनी स्किन टाइप के लिए सही स्क्रब चुनने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप अपनी स्किन की सेंसिटिविटी और जरूरत को ध्यान में रखें। जैसा कि हमने कहा, नमक के स्क्रब काफी ड्राय हो सकते हैं। इसलिए यह ध्यान में रखें कि इसे ड्राय और डिहाएड्रेटेड स्किन के लिए उपयोग न करें । यदि आपकी स्किन कहीं पर कटी है, चोट लगी है, फटी हुई है या इन्फलेमेशन है तो इस पर स्क्रब ना लगाएं। इसके अलावा यह भी देखें कि स्क्रब के दाने बारीक हो, ताकि बॉडी पर इससे खरोंच न पड़े। कुछ लोकप्रिय नमक और शुगर स्क्रब रेसिपी हैं -

ऑयली स्किन के लिए डिटॉक्सीफाइंग नमक का स्क्रब - ऑयली स्किन के लिए एक बेहतरीन स्क्रब बनाने के लिए आप रिफाइंड नमक, नीम पाउडर, 2-3 बूंदें तुलसी या टी ट्री ऑयल की और कोई तेल, जैसे- जैतून या ग्रेपसीड्स ऑयल। स्क्रब का तुरंत इस्तेमाल करें या किसी कांच के टाइट जार में स्टोर करें और तीन से चार दिनों के भीतर इस्तेमाल करें।

ड्राय और थकी हुई स्किन के लिए हाएड्रेटिंग शक्कर का स्क्रब - थकी हुई स्किन को एक्सफोलिएट करने के लिए बारीक शक्कर, ग्रीन टी पाउडर, 2-3 बूंदें लैवेंडर एसेंशियल ऑयल और एवाकाडो ऑयल को मिलाकर एक सॉफ्ट मिक्स बनाएं। स्क्रब को तुरंत इस्तेमाल करें या किसी कांच के टाइट जार में स्टोर करें और तीन से चार दिनों के भीतर इस्तेमाल करें।