हम सभी को पता है कि उम्र का बढ़ना एक स्वाभाविक और तयशुदा प्रक्रिया है, लेकिन फिर भी हम जब अपनी आंखों के आसपास पहली झुर्री देखते हैं तो डरावना महसूस करते हैं. उम्र के बढ़ने का संकेत और तनाव देने वाले इन निशानों में एक है क्रोज़ फ़ीट. यदि आप ‘क्रोज़ फ़ीट’ टर्म पहली बार सुन रही हैं तो हम आपको बता दें कि ये आपकी आंखों के बाहरी कोने पर आई ऐसी झुर्रिया हैं जो कौवे के पैर की तरह नज़र आती हैं और इन्हें इसीलिए क्रोज़ फ़ीट कहा जाता है. क्रोज़ फ़ीट का आना जैसे अचानक ही आपकी उम्र को सालों आगे बढ़ा देता है और ये समय से पहले त्वचा की उम्र बढ़ने यानी प्रीमैच्योर एजिंग का संकेत भी है. यही वजह है वजह कि यहां हम आपको इससे निपटने के घरेलू तरीक़ों के बारे में बता रहे हैं. तो नोट्स लेने तैयार हो जाइए...

एसपीएफ़ और अंडर आइ क्रीम
 

एसपीएफ़ और अंडर आइ क्रीम

एसपीएफ़ को आपके स्किन केयर रूटीन का हिस्सा होना ही चाहिए. यह न केवल सन टैन और सन बर्न से आपको बचाता है, बल्कि आपकी आंखों के निचले हिस्से की स्थिति को सुधारने का काम भी करता है. सूरज की किरणों के संपर्क में आने पर आंखों के निचले हिस्से यानी अंडर आइ एरिया पर भी बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है और यह हिस्सा फीका व लटका हुआ नज़र आने लगता है. अत: जब भी घर से बाहर निकलें सन स्क्रीन अप्लाइ करके ही निकलें और सोने जाने से पहले अपनी आंखों के आसपास व निचले हिस्से पर नमी देने वाली अंडर आइ क्रीम लगाना न भूलें, ताकि रातभर आपके चेहरे का ये हिस्सा आराम पा सके और ख़ुद की मरम्मत कर सके.

त्वचा को आराम करने दें
 

त्वचा को आराम करने दें

तनाव की वजह से मांसपेशियों में खिंचाव होता है और इससे आपके चेहरे की नाज़ुक त्वचा को नुक़सान पहुंचता है. यही नुक़सान अंतत: झुर्रियों का करण बनता है. अत: अपने लिए समय निकालें और अपने आराम को तरजीह दें. अच्छी त्वचा और बाल पाने के लिए अच्छी नींद लेना ज़रूरी है. साथ ही यदि संभव हो सैटिन या सिल्क पिलो कवर वाले तकिए पर ही सिर रख कर सोएं.

अपने खानपान पर ध्यान दें
 

अपने खानपान पर ध्यान दें

सेहतमंद खाना खाएं और ख़ूब सारा पानी व जूसेस पिएं, ताकि शरीर में तरलता की कमी न हो. शरीर को अच्छी तरह हाइड्रेटेड रखने से हम जवां नज़र आते हैं. अपने खाने में ओमेगा-3 फ़ैटी ऐसिड्स और विटामिन A, B, C और E से भरपूर फलों व सब्ज़ियों को शामिल करें. ये आपकी त्वचा के लचीलेपन को बनाए रखने वाले कोलैजन के उत्पादन को बढ़ाने का काम करते हैं, जिससे त्वचा की दृढ़ता लंबे समय तक बनी रहती है.

प्राकृतिक उपचार
 

प्राकृतिक उपचार

झुर्रियों से बचाव के झटपट घरेलू उपाय व घरेलू नुस्खों के लिए अपने किचन का रुख़ करें. वहां से ऐलो वेरा, दही, अंडे की सफ़ेदी या नींबू उठा लाएं. इन सभी में ऐंटी-एजिंग गुण होते हैं और ये सभी झुर्रियों को आपके चेहरे से दूर रखने में कारगर हैं. इसके अलावा नारियल का तेल व आर्गन ऑइल भी त्वचा से उम्र के निशानों को दूर करने में बहुत फ़ायदेमंद होते हैं.

ऐंटी-एजिंग प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल
 

ऐंटी-एजिंग प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल

ऐंटी-एजिंग प्रोडक्ट्स जैसे आपकी त्वचा पर जादू-सा कर देते हैं. अपने स्किन केयर रूटीन में ऐंटी-एजिंग प्रोडक्ट्स शामिल करें और रोज़ाना नियमित तौर पर उनका इस्तेमाल करें. इससे चेहरे पर दिखाई देने वाले उम्र के बढ़ते निशानों पर लगाम लग जाएगी. हम आपको लैक्मे यूथ इन्फ़िनिटी स्किन स्कल्पटिंग डे क्रीम एसपीएफ़ 15 पीए ++ के इस्तेमाल की सलाह देंगे. यह डे क्रीम झुर्रियों के साथ-साथ चेहरे पर मौजूद दाग़-धब्बों को भी कम करती है. साथ ही आपकी त्वचा में कसावट भी लाती है.