दही के फ़ायदे दूध से भी कहीं ज़्यादा है। इसमे कैल्शियम, प्रोटीन और विटामिन्स होते हैं, जो सेहत के लिए बहुत फ़ायदेमंद होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह जितना सेहत के लिए ज़रूरी है, उतना ही स्किन को भी लाभ देता है। आपने कई बार घर में ही दही के फ़ेस पैक तो बनाए होंगे। लेकिन कभी सोचा है कि आख़िर इसमें ऐसा क्या है, जो यह स्किन के लिए इतना कारगर सिद्ध होता है। तो चलिये, हम आपको बताते हैं दही के 5 गुण, जिनसे आप वाकिफ़ नहीं हैं।

 

01. रंगत निखारता है

01. रंगत निखारता है

घर से बाहर निकलते ही हमारा सामना होता है धूल-मिट्टी, प्रदूषण और यूवी रेज़ से, जो स्किन को डल और बेजान बना देती है। दही में लैक्टिक एसिड होता है, जो स्किन को एक्सफोलिएट करता है और डेड स्किन सेल्स कि लेयर को हटाता है, जिससे स्किन ब्राइट लगती है। लेकिन एक बात ध्यान में रखें कि दही को फ़ेस पर हफ़्ते में सिर्फ दो बार लगाएं।

 

02. स्किन को यूवी रेज़ से होने वाले नुकसान से बचाता है

02. स्किन को यूवी रेज़ से होने वाले नुकसान से बचाता है

दही को नियमित रूप से फ़ेस पर लगाने से यह स्किन पर अल्ट्रावायलेट रेज़ के इफेक्ट, जैसे- डार्क स्पॉट्स और अनइवन स्किन टोन को कम करता है। एक रिपोर्ट से ये भी पता चला है कि दही फ़ेस पर एक ऐसी परत के रूप में काम करता है, जिससे सूर्य की किरणें स्किन को नुकसान नहीं पहुंचा पाती।

 

03. झुर्रियों और फाइन लाइंस को कम करता है

03. झुर्रियों और फाइन लाइंस को कम करता है

जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, स्किन अपनी नैचुरल इलास्टिसिटी और कोलेजन खोने लगता है, जिससे समय से पहले उम्र बढ़ने लगती है और चेहरे पर झुर्रियां और फाइन लाइंस दिखने लगती हैं। दही में एक प्रोटीन होता है, जो कोलेजन प्रोड्यूस करता है और जो स्किन की इलास्टिसिटी को इंप्रूव करता है। यहसमय से पहले उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को रोकता है।

 

04. ऐक्ने को ठीक करता है

04. ऐक्ने को ठीक करता है

दही में प्रोबायोटिक्स भरपूर मात्र में होता है, जो ऐक्ने से लड़ने में मदद करता है। दही में मौजूद प्रोबायोटिक्स उन बैक्टीरिया से लड़ने में सक्षम होते हैं, जिससे ऐक्ने होते हैं। इस तरह यह नए ऐक्ने बनने पर रोक लगाता है और मौजूद ऐक्ने की तकलीफ़ में राहत देता है व उन्हें हील करने में मदद करता है।

 

05. स्किन इन्फेक्शन से बचाव

05. स्किन इन्फेक्शन से बचाव

दही में जलन व सूजन को कम करने के गुण होते हैं। इसके अलावा इसमें मायक्रोबायल तत्व भी होते हैं, जो स्किन इर्रिटेशन में राहत दिलाते हैं। लेकिन हम आपको सलाह देंगे कि कभी भी इन्फेकटेड एरिया पर दही न लगाएं। हमेशा इस तरह के स्किन प्रॉब्लम में पहले अपने डर्मेटोलोजिस्ट से कंसल्ट करें।