अगर आप चाहते हैं कि आपकी त्वचा नर्म और मुलायम रहे तो बहुत ज़रूरी है कि आप बॉडी लोशन लगाएं। अब जैसे-जैसे हम अपनी त्वचा की जरूरतों को समझने लगे हैं, हमारा स्किनकेयर रूटीन भी लंबा हो गया है। देखा जाय तो रात को सोने से पहले बॉडी के लिए तीन अलग-अलग तरह की क्रीम, अलग-अलग बॉडी के पार्ट्स पर लगाना ज़रूरी है। लेकिन बहुत कम महिलाएं ऐसी हैं, जो इन सबको फॉलो करती हैं।

महिलाएं स्किन के लिए बॉडी लोशन यूज़ करती हैं, लेकिन कई बार ऐसा भी होता है कि जब वो बॉडी लोशन को फ़ेस पर यूज़ कर लेती हैं, यह सोचकर कि आखिर दोनों का काम एक ही तो है। है न? लेकिन ऐसा नहीं है। माना कि वो एक ही काम करते हैं और वो है स्किन को मोइश्चराइज़ करने का, लेकिन एक ही क्रीम या लोशन का इस्तेमाल दूसरे के लिए नहीं किया जा सकता। जानना चाहते हैं क्यों?

 

आपके फ़ेस की स्किन डेलिकेट होती है

आपके फ़ेस की स्किन डेलिकेट होती है

आपके फ़ेस की स्किन बाकी बॉडी की अपेक्षा ज़्यादा डेलिकेट होती है। इसका कारण यह है कि आपकी बॉडी की स्किन सेल्स को फ़ेस की स्किन की तुलना में बहुत धीमी गति से रिप्लेस करती है। चूंकि बॉडी की स्किन मोटी होती है, इसलिए इसे चाहिए ऐसे प्रोडक्ट्स, जो मोइश्चराइज़र की तुलना में थोड़े गाढ़े हों।

 

यह पोर्स को क्लॉग कर सकता है

यह पोर्स को क्लॉग कर सकता है

बॉडी लोशन की कंसिस्टेन्सी ज़्यादा क्रीमी होती है, इसलिए यदि आप इसे फ़ेस पर अप्लाय करती हैं, तो आपकी स्किन को न सिर्फ इसे एब्ज़ोर्ब करने में परेशानी होती है, बल्कि यह गंदगी और धूल-मिट्टी को भी अपनी ओर आकर्षित कर पोर्स को क्लॉग कर देती है और नतीज़ा- ऐक्ने, जो आप बिल्कुल नहीं चाहेंगी।

दूसरी तरफ, मोइश्चराइज़र में जेंटल इंग्रेडिएंट्स होते हैं, जो स्किन में आसानी से गहराई तक पहुंचकर इसे नमी और पोषण देते हैं।

 

ऐलर्जी हो सकती है

ऐलर्जी हो सकती है

बॉडी लोशन से आपके फ़ेस की डेलिकेट स्किन पर ऐलर्जिक रिएक्शन हो सकता है, क्योंकि इसमें जो केमिकल्स और इंग्रेडिएंट्स होते हैं, वो आपके फ़ेस की स्किन पर हार्श हो सकती हैं और नुकसान पहुंचा सकते हैं, कई बार तो इनसे ऐलर्जी हो जाती है।

 

इसमें मौजूद केमिकल्स स्किन को नुकसान पहुंचा सकते हैं

इसमें मौजूद केमिकल्स स्किन को नुकसान पहुंचा सकते हैं

बॉडी लोशन में फ़ेस मोइश्चराइज़र की तुलना में कहीं ज़्यादा आर्टिफ़िशियल ख़ुशबू और कलर्स होते हैं। जब इन्हें फ़ेस पर लगाया जाता है, तो इनमें मौजूद केमिकल्स स्किन को काफी नुकसान पहुंचा सकती है। यहां तक कि इससे इर्रिटेशन और रेडनेस भी हो सकती है।