जिस तरह हर मेकअप प्रोडक्ट की एक्स्पायरी डेट होती है, वैसे ही सनस्क्रीन की भी होती है। वैसे तो अधिकतर सनस्क्रीन की शेल्फ लाइफ तीन साल की होती, फिर भी यह हर प्रोडक्ट पर निर्भर करता है। यह कम-ज़्यादा भी हो सकता है। यदि आप डर्मेटोलोजिस्ट की सलाह मानते हुए हर रोज़ सनस्क्रीन लगाते है, तो आपको इसकी एक्स्पायरी डेट की चिंता नहीं होगी, क्योंकि आप समय के पहले ही इसे यूज़ कर चुकी होंगी। लेकिन वो लोग जो कभी-कभार इस इसका इस्तेमाल करते हैं, उन्हें सतर्क होने की ज़रूरत है। उन्हें यूज़ करने के पहले सनस्क्रीन की एक्स्पायरी डेट ज़रूर चेक कर लेना चाहिए।

यदि आप काफी समय बाद धूप में घर से बाहर निकाल रहे हैं और सनस्क्रीन लगा रहे हैं या कई दिनों के बाद अचानक खयाल आया की आज सनस्क्रीन लगा लें, तो हमारी सलाह है कि ऐसा बिलकुल न करें। चलिये, हम आपको बताते हैं कि एक्स्पायरी डेट होने के बाद भी उस सनस्क्रीन को यूज़ करने से क्या फर्क पड़ता है।

why not to use an expired sunscreen

- यह आपको प्रोटेक्शन नहीं देगा

किसी भी स्किन केयर प्रोडक्ट को बननाने के लिए कई इंग्रेडिएंट्स का इस्तेमाल किया जाता है, जिससे वह स्किन प्रॉबलम को खत्म कर सके और साथ ही पर्यावरण सम्बंधी समस्याओं , जैसे सूर्य की किरणों से स्किन को होने वाले नुकसान से बचाव कर सके। जब प्रोडक्ट एक्सपायर होता है, तब उसमे मौज़ूद इंग्रेडिएंट्स भी ऐक्टिव नहीं रहते और उसे यूज़ करने का आपका मक़सद भी बेकार हो जाता है। इसका एसपीएफ वैल्यू भी कम हो जाता है, यानि आपने सनस्क्रीन लगाने का कोई मतलब ही नहीं रह जाता।

- यह आपकी स्किन को नुकसान

एक्सपायर्ड प्रोडक्ट आपकी स्किन के लिए नुकसानदायक हो सकता है। सनस्क्रीन की ट्यूब को बार-बार खोलने से बैक्टीरिया और जर्म्स सनस्क्रीन में ट्रांसफर हो जाते हैं। और जब आप लंबे समय तक सनस्क्रीन इस्तेमाल नहीं करते तो यह बैक्टीरिया ट्यूब के अंदर पनपने लगते हैं और प्रोडक्ट को खत्म कर देते हैं, इसलिए एक्सपायर्ड सनस्क्रीन यूज़ करने से आपकी स्किन पर ऐक्ने हो सकते हैं और स्किन इर्रिटेशन हो सकता है।

why not to use an expired sunscreen

कैसे जानें कि आपका सनस्क्रीन खराब हो गया है

सनस्क्रीन को गरम जगहों पर रखने से वो खराब हो जाता है, जैसे- कार या पर्स में रखने से यह एक्स्पायरी डेट के पहले ही खराब हो जाता है। इसलिए जो एक्सपायरी डेट पैकेजिंग पर लिखी है, उससे पहले ही प्रोडक्ट को इस्तेमाल कर लें। साथ ही ये बातें ध्यान में रखें-

गंध- यदि आपके सनस्क्रीन में गंदी स्मेल यानि गंध आने लगे तो समझ लीजिये इसमे बैक्टीरिया पनप चुके हैं और अब ये आपके काम का नहीं रह गया है।

टेक्सचर – यदि आपके सनस्क्रीन में से पानी निकलने लगा हो, तो समझ लीजिये कि आपका प्रोडक्ट बदलने का समय आ गया है।

एक्स्पर्ट्स का मानना है कि आपको अपना सनस्क्रीन हर साल बदल देना चाहिए और यदि आप नियमित रूप से इसे लगाते हैं, तो आपके एक्स्पायरी डेट चेक करने के पहले आपका प्रोडक्ट खत्म हो चुका होगा, इसलिए परवाह न करें।