हम बहुत अच्छी तरह जानते हैं कि आपका फ़ोन एक तरह से आपके हाथों का विस्तार ही है. आपका फ़ोन आपका सबसे अच्छा सहायक है, जो हमेशा आपकी ख़िदमत में हाज़िर रहता है और आपके कमरे में बेड साइड पर पड़ा हर सुबह आपका शिद्दत से इंतज़ार करता है. हमें पता है कि आप उस लंबी-सी सूची की तरफ़ ध्यान भी नहीं देना चाहतीं, जो तकनीक के बेजा इस्तेमाल से होने वाली समस्याओं से पटी पड़ी है. पर हम आपको सच्चाई से रूबरू कराए बिना भी तो नहीं रह सकते, क्योंकि बीब्यूटिफ़ुल में हम आपका भला ही चाहते हैं.

और इसीलिए हम आपको बताना चाहते हैं कि आपका प्रिय फ़ोन किस तरह आपकी प्यारी त्वचा को नुक़सान पहुंचा रहा है. हम आपको आपके इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों से निकलने वाली ब्लू लाइट के प्रभाव के बारे में बताना चाहते हैं और इस तथ्य की ओर आपका ध्यान आकर्षित कराना चाहते हैं कि इसका आपकी त्वचा पर बुरा प्रभाव पड़ता है.

जब ब्लू लाइट, जिसे हाइ-एनर्जी विज़िबल लाइट भी कहते हैं, के बाहर निकलने की बात आती है, तो इसका दोष मुख्य रूप से सूर्य पर मढ़ा जाता है. लेकिन सच्चाई यह है कि आपका फ़ोन, आपका लैपटॉप, आपका कम्प्यूटर और आपके बाजू में टेबल पर रखा जलता हुआ लैम्प इन सभी का आपकी त्वचा पर ऐसा ही प्रभाव पड़ता है-ख़ासतौर पर आज के समय में, जब हम घंटों अपने स्क्रीन से चिपके बैठे रहते हैं, जिसकी दूरी हमारे चेहरे से महज़ तीन इंच भी नहीं होती. हमारे पास इस बात के पुख़्ता सबूत हैं कि ब्लू लाइट आपकी त्वचा की नई ‘दुश्मन’ है.

यह आपकी त्वचा के लिए हानिकारक क्यों है?

ब्लू लाइट, फ्री रैडिकल्स पैदा करती है यानी ऐसे बहुत अधिक प्रतिक्रियात्मक अणु, जो आपकी त्वचा को नुक़सान पहुंचा सकते हैं. ये रैडिकल्स त्वचा पर मौजूद कोलैजन और इलैस्टिन की संरचना को नष्ट कर देते हैं, जिससे आपकी कसी हुई लचीली त्वचा में झुर्रियां और ढीलापन आने लगता है. कुछ एक्स्पर्ट्स का कहना है कि यह क्षति बिल्कुल वैसी ही क्षति है, जैसी कि UVA और UVB किरणों की वजह से पहुंचती है. जिनकी वजह से त्वचा की उम्र बढ़ती है और उस पर दाग़-धब्बे आने लगते हैं.

हम सभी ने इस बारे में सुना होगा कि किस तरह ब्लू लाइट शरीर में स्रवित होने वाले नींद लाने के लिए ज़िम्मेदार हार्मोन मेलाटोनिन के उत्पादन को कम करती है, जिससे आपको लगता है कि आपको थकान नहीं हुई है और नींद आपसे कोसों दूर चली जाती है. ब्लू लाइट हमारी सर्केडियन रिदम पर भी प्रभाव डालती है. नई बात, जो हम आपको बताने जा रहे हैं वह यह है कि ब्लू लाइट आपकी त्वचा की सर्केडियन रिदम पर भी प्रभाव डालती है, जिससे त्वचा का ख़ुद की मरम्मत करने का चक्र बिगड़ जाता है, क्योंकि ब्लू लाइट पड़ने पर वह यह समझती है कि अभी दिन का समय है, बावजूद इसके कि सचमुच वह रात का समय होता है.
ब्लू लाइट से त्वचा की सुरक्षा करने के लिए सुझाव
 

ब्लू लाइट से त्वचा की सुरक्षा करने के लिए सुझाव

  • अपने फ़ोन के लिए ब्लू लाइट स्किन प्रोटेक्टर ख़रीदें और लगाएं. येसस्ते भी होते हैं और इन्हें आसानी से उपयोग में भी लाया जा सकता है.
  • अपने फ़ोन में मौजूद नाइट मोड का इस्तेमाल करें और ब्लू लाइट से यलो लाइट पर स्विच कर जाएं- केवल इस एक बटन को टैप कर के आप अपनी त्वचा को समस्याओं से बचा ले जाएंगी.
  • एक ऐसी क्रीम ख़रीदें, जो आपकी त्वचा को ब्लू लाइट से सुरक्षा प्रदान करती हो.
  • ब्लू लाइट पेनिट्रेशन को सीमित करने के लिए अपने चश्मे पर कोटिंग कराएं.
  • रात के समय अपने गैजेट्स का जितना कम हो सके, उतना कम इस्तेमाल करें.
हमने तो अपना काम कर दिया, पर यदि आप अब भी अपने स्क्रीन को अपनी स्किन से ज़्यादा तरजीह देना चाहती हैं तो कोई बात नहीं. आप बिल्कुल ऐसा कर सकती हैं और हम यहां आपके लिए प्रार्थना करेंगे कि आपकी आंखों के आसपास झुर्रियां बिल्कुल भी न आएं.