ग्लोइंग स्किन सदाबहार है!

अपनी त्वचा की रोज़ाना नियमित रूप से देखभाल करने से आपकी त्वचा खिली-निखरी नज़र आती है, इसमें कोई संदेह नहीं. पर त्वचा की सेहत और टेक्स्चर में और सुधार लाने के लिए एक अतिरिक्त क़दम उठा लेना भी बहुत फ़ायदेमंद साबित हो सकता है. हां, यहां हम फ़ेशियल और उससे होने वाले फ़ायदे के बारे में बात कर रहे हैं.

आपकी त्वचा को नवजीवन देने और डीटॉक्सिफ़ाइ करने के साथ-साथ मुहांसों का इलाज और ब्लैकहेड्स को हटाने तक, फ़ेशियल के अलग-अलग स्टेप्स आपकी त्वचा का 360 डिग्री यानी पूरा ख़्याल रखते हैं. यहां हम आपको बता रहे हैं कि महीने में एक बार फ़ेशियल कराने से किस तरह आपके चेहरे पर जादुई असर दिखाई देगा.

ब्लैकहेड्स और वाइटहेड्स हो जाएंगे विदा
 

ब्लैकहेड्स और वाइटहेड्स हो जाएंगे विदा

यह तेल और त्वचा की मृत कोशिकाओं का ऑक्सिडाइज़्ड मिश्रण, जो आपक त्वचा के रोमछिद्रों में आराम कर रहा है यानी ब्लैकहेड्स और वाइटहेड्स, त्वचा की बड़ी समस्याओं में से एक हैं. वे चेहरे पर बहुत ही ख़राब दिखाई देते हैं और आपका पूरा लुक ही बिगड़ जाता है. और सबसे ख़राब बात? जब भी आप इनमें से किसी एक को निकालती हैं, आपको ये दो-चार की संख्या में और नज़र आ जाते हैं. यही वजह है कि फ़ेशियल करना बहुत ज़रूरी है. एक्स्ट्रैक्शन टूल की सहायता से आप अपनी नाक और ठोढ़ी के आसपास मौजूद ब्लैकहेड्स व वाइटहेड्स निकलवा सकती हैं, वह भी आपकी त्वचा को कोई नुक़सान व दर्द पहुंचाए बिना.

उम्र के बढ़ते निशानों में आएगी कमी
 

उम्र के बढ़ते निशानों में आएगी कमी

उम्र के बढ़ने के साथ-साथ कोलैजन का उत्पादन कम होता है और आपकी त्वचा अपना लचीलापन खोने लगती है. कोलैजन के उत्पादन को बढ़ाने और आपकी त्वचा में कसाव लाने के लिए फ़ेशियल एक बेहतरीन ट्रीटमेंट है. फ़ेशियल के दौरान इस्तेमाल किए जाने वाले पील्स, फ़ेस पैक्स, क्रीम्स और लोशन्स में बॉटैनिकल एक्स्ट्रैक्टस होते हैं, जो बढ़ती उम्र के निशानों को कम करते हैं और आपकी त्वचा को सेहतमंद व जवां चमक देते हैं.

अब नहीं होंगे काले घेरे और झुर्रियां
 

अब नहीं होंगे काले घेरे और झुर्रियां

आपकी आंखों के आसपास के हिस्से की त्वचा बहुत पतली और बहुत संवेदनशील होती है यही वजह है कि इसे अतिरिक्त देखभाल की ज़रूरत होती है. यदि इसका सही तरीक़े से ध्यान नहीं रखा गया तो आपको काले घेरों यानी डार्क सर्कल्स, क्रोज़ फ़ीट और अंडर आइ बैग्स की समस्या हो सकती है. आपकी आंखों के डार्क सर्कल्स और आंखों के आसपास की झुर्रियों को हटाने में फ़ेशियल बहुत कारगर साबित होता है. सबसे पहले तो फ़ेशियल के दौरान जो आइ क्रीम्स इस्तेमाल की जाती हैं वो आपकी आंखों के आसपास की संवेदनशील त्वचा को ट्रीट करती हैं और इस हिस्से में ऐंटी-एजिंग के फ़ायदे पहुंचाती हैं. यही नहीं, फ़ेशियल के दौरान आंखों पर रखी जाने वाली खीरे की स्लाइसेज़ थकी हुई आंखों को हाइड्रेट करती हैं और यहां मौजूद डार्क सर्कल्स व झुर्रियों को कम करती हैं.

त्वचा की रंगत खिल उठेगी
 

त्वचा की रंगत खिल उठेगी

काले धब्बे यानी डार्क स्पॉट्स और पिग्मेन्टेशन त्वचा से जुड़ी आम समस्याएं हैं, जिनसे अधिकतर महिलाएं परेशान रहती हैं. सूरज की किरणों में लंबे समय तक रहना, पलूशन और उम्र बढ़ने के दौरान होने वाले हार्मोनल बदलाव आदि इसके कारण हैं, जिनकी वजह से त्वचा में बहुत अधिक मेलैनिन का उत्पादन होने लगता है, जिससे त्वचा में काले धब्बे आ जाते हैं. फ़ेशियल इन काले धब्बों को कम करता है और त्वचा की रंगत एकसमान बनाते हुए आपकी त्वचा की रंगत में निखार लाता है.

बंद रोमछिद्र होंगे साफ़
 

बंद रोमछिद्र होंगे साफ़

हमारी त्वचा रोज़ाना बहुत-सी चीज़ों का सामना करती है. गर्मी, प्रदूषण, धूल-गंदगी, पसीना और मेकअप सभी हमारी त्वचा की सतह पर समय-समय पर अपनी मौजूदगी दर्ज कराते रहे हैं, जिसकी वजह से हमारी त्वचा के रोमछिद्र बंद हो जाते हैं. फ़ेशियल के दौरान जब आपके चेहरे को भाप दिलाई जाती है तो ये रोमछिद्र खुलते हैं और इनमें मौजूद गंदगी बाहर निकलती है. यही नहीं, इससे त्वचा की मृत कोशिकाएं भी हटती हैं और इस वजह से मुहांसे की समस्या नहीं होने पाती.

अपने नियमित फ़ेशियल सत्र के लिए आप लैक्मे सलून में अपॉइंटमेंट ले कर अपनी त्वचा को उसकी ज़रूरत का हाइड्रेशन दे सकती हैं और अपनी त्वचा में आई सेहतमंद चमक को ख़ुद महसूस कर सकती हैं.