गर्मी से राहत पाने के लिए हमें सर्दियों का बेसब्री से इंतज़ार रहता है. चिलचिलाती धूप की जगह नर्म हल्की धूप हमें ज़्यादा भाती है, लेकिन जैसे ही सर्दियां शुरू होती हैं हम रूखे बेजान बाल, रूखी त्वचा और फटे होंठों से बेहद परेशान हो जाते हैं. सर्द मौसम में ब्यूटी का ख़याल रखना थोड़ा मुश्किल ज़रूर है, लेकिन कई ऐसे भ्रम यानी मिथ्स भी हैं जिनका सच आपजानकर हैरान रह जाएंगे. यहां हम ऐसे ही मिथ्स का पर्दाफाश करेंगे ताकि आप विंटर में अपनी स्किन व बालों की बेहतर देखभाल कर सकें और पाएं हेल्दी ग्लोइंग स्किन.

 

मिथ 1. थिक क्रीम ज़्यादा मॉइश्चराइज़िंग होती हैं

मिथ 1. थिक क्रीम ज़्यादा मॉइश्चराइज़िंग होती हैं

अक्सर थिक मॉइश्चराइज़िंग क्रीम्स देखकर आप यही सोचती हैं ना कि ये बहुत ज़्यादा मॉइश्चराइज़िंग है और मेरी स्किन को एकदम बटर की तरह नर्म-मुलायम बना देगी. ये सच है कि विंटर के लिए थिक क्रीम्स बेहतर विकल्प हैं लेकिन वो अधिक मॉइश्चराइज़िंग भी होंगी ये ज़रूरी नहीं. विंटर में आपके लिए क्या बेहतर होगा ये आपको अपनी स्किन टाइप और ज़रूरतों को ध्यान में रखकर लेना होगा. अगर आपकी स्किन को एक्स्ट्रा हाइड्रेशन की ज़रूरत है तो सीरम और लाइट मॉइश्चराइज़र बेहतर होगा. लेकिन यदि आपकी स्किन प्राकृतिक रूप से ड्राई और स्केली है तो थिक मॉइश्चराइज़िंग क्रीम आपके काम आ सकती हैं.

 

मिथ 2. गर्म पानी से नहाने से स्किन की नमी बरकरार रहती है

मिथ 2. गर्म पानी से नहाने से स्किन की नमी बरकरार रहती है

एक थकान और तनावभरे दिन के बाद हॉट शॉवर काफ़ी राहत देता है, लेकिन क्या आप जानती हैं कि गर्म पानी से नहाना आपको फायदा कम और नुक़सान ज़्यादा पहुंचाएगा. गर्म पानी आपकी त्वचा से प्राकृतिक और एसेंशियल ऑयल्स छीनकर उसको रूखा बना सकता है. दूसरी तरफ़ इस मौसम में गर्म पानी से ना नहाना भी संभव नहीं, ऐसे में बेहतर यही होगा कि आप शॉवर की अवधि कम कर दें यानी बहुत देर तक गर्म पानी से न नहाएं. आपकी त्वचा गर्म पानी के संपर्क में जितनी कम रहे उतना बेहतर होगा या आप पानी के तापमान को भी कम कर सकती हैं यानी गर्म की बजाय कुछ समय तक आप गुनगुने पानी से नहाएं. इसके साथ ही विंटर स्किन केयर प्रोडक्ट्स का भी इस्तेमाल करें, जैसे क्रीम्स और मॉइश्चराइज़र्स जो ख़ासतौर से विंटर में ड्राई स्किन के लिए बने हों.

 

मिथ 3. सर्दियों का मतलब है सनस्क्रीन का इस्तेमाल करने की ज़रूरत नहीं

मिथ 3. सर्दियों का मतलब है सनस्क्रीन का इस्तेमाल करने की ज़रूरत नहीं

हम इसी सोच के साथ बड़े हुए हैं कि सनस्क्रीन सिर्फ़ बीच डे या स्पोर्ट्स डे के लिए ही ज़रूरी है और सर्दियों में इसकी ज़रूरत ही नहीं. लेकिन ये सच नहीं है. भले ही तेज़ धूप न हो, सर्द मौसम में बादल छाए हुए हों लेकिन सनस्क्रीन ऐसे में भी बेहद ज़रूरी है, क्योंकि भले ही वो तेज़ धूप नज़र न आ रही हो लेकिन सूर्य की हानिकारक किरणें हर मौसम में रहती ही हैं. गहरे-गहने बादलों में भी सनस्क्रीन बेहद ज़रूरी है इसलिए अपने विंटर सनस्क्रीन रूटीन में सनस्क्रीन को अभी शामिल करें.

 

मिथ 4. सर्दियों में भी हेयर केयर रूटीन वैसा ही रहता है जैसा बाक़ी मौसम में

मिथ 4. सर्दियों में भी हेयर केयर रूटीन वैसा ही रहता है जैसा बाक़ी मौसम में

अपने बालों की ज़रूरतों को आपको ही समझना होगा. मौसम, जगह और अन्य चीजों के साथ हेयर केयर बदलता है. हां, सर्दियों में इन्हें एक्स्ट्रा प्यार और देखभाल की ज़रूर ज़रूरत होती है. उदाहरण के लिए- ऑइल्स की जगह मॉइश्चराइज़िंग बटर यूज़ करें, क्योंकि ये आपके बालों में मॉइश्चर को लॉक कर देते हैं और उन्हें बनाते हैं नर्म-मुलायम.

 

मिथ 5. ऑयली स्किन को सर्दियों में मॉइश्चराइज़ करने की ज़रूरत नहीं होती

मिथ 5. ऑयली स्किन को सर्दियों में मॉइश्चराइज़ करने की ज़रूरत नहीं होती

चाहे आपकी स्किन ऑयली हो या न हो सर्दियों में मॉइश्चराइज़ेशन ज़रूरी होता है, क्योंकि बाहर हवा ठंडी और रूखी होती है. प्रदूषण और अन्य बाहरी तत्वों के प्रति एक सुरक्षा कवच तैयार करने के लिए हर प्रकार की स्किन को अच्छेमॉइश्चराइज़र की ज़रूरत होती है. इसलिए ऑयली स्किन के लिए ऑयल फ्री या जेल बेस्ड Pond’s Super Light Gel Face Moisturiser जैसे लाइट वेट फॉर्मूला का इस्तेमाल करें, ताकि ये सुनिश्चित रहे कि सर्दियों में हवा में नमी की कमी के बाद भी आपकी स्किन सही तरीक़े से हाइड्रेटेड रहे.