ज़्यादातर लोग ऐसे हैं, जिन्हें बारिश का मौसम पसंद है, ठंडी हवा का बहना सुकून देता है, लेकिन जब यही बारिश परेशानी का कारण बन जाये तो मौसम से चिढ़ भी हो जाती है। खासतौर पर तब, जब बारिश में घर से बाहर कदम रखो और बारिश का पानी और कीचड़ आपके खूबसूरत पैरों की सूरत बदल दे। लेकिन थोड़ी-सी परेशानी के कारण आप मौसम को दोष न दें, बल्कि केयर करें, फिर देखिये आप भी मॉनसून का लुत्फ़ उठा सकेंगी। हम आपको बता रहे हैं कुछ आसान से टिप्स, जिनसे आपके पैरों की खूबसूरती बरक़रार रह सकती है।

 

01. गीले जूते और मोज़े न पहनें

01. गीले जूते और मोज़े न पहनें

बारिश में पैरों की समस्या होने का मुख्य कारण है जूतों, मोज़ों और पैंट का लंबे समय तक गीला रहना। इससे बैक्टीरिया और फंगल इन्फेक्शन होने का दर होता है। इसलिए बेहतर होगा की मॉनसून में क्लोज्ड शूज न पहनें और ऐसे फुटवेयर पहनें, जिसमे आपका अंगूठा और फिंगर्स खुली रहे। इस तरह के फुटवेयर में पानी जमा नहीं होगा और आपके पैर सुरक्षित रहेंगे। अगर आपको लगता है कि मौजे पहनना ज़रूरी है, तो एक जोड़ी एक्सट्रा मौजे साथ में रखें, ताकि गीले होने पर मौजे बदल सकें।

 

02. घर पर करें केयर

02. घर पर करें केयर

माना कि नियमित रूप से पेडीक्योर और स्पा के लिए आप सलोन नहीं जा सकते, लेकिन इसका मतलब ये भी तो नहीं कि आप घर पर अपने पैरों की केयर नहीं कर सकते। एक बाल्टी में गरम पानी लें, इसमें थोड़ा-सा नमक और कुछ बूंदें शैम्पू की मिलाएं। अब इस पानी में अपने पैरों को कुछ देर डुबो कर रखें। ऐसा हफ़्ते में एक बार ज़रूर करें, इससे आपके पैरों के एड़ियों की डेड स्किन निकल जाएगी और बैक्टीरिया भी मर जाएंगे।

 

03. फुट क्रीम लगाएं

03. फुट क्रीम लगाएं

मॉनसून में आपके पैरों को लगातार पानी और हयूमिडिटी को झेलना पड़ता है और मौसम की ये मार आपके पैरों की नमी चुरा लेती है। इसलिए ज़रूरी है कि पैरों को थोड़ा हाइड्रेट किया जाय। इसके लिए रात को सोने से पहले रिच और नारिशिंग फुट क्रीम जैसे Vaseline Derma Care Cracked Foot Repair Cream लगाएं और फिर मोज़े पहनकर सोएं, इससे आपके पैरों को नमी मिलेगी और सुबह तक आपके पैर नर्म और मुलायम हो जाएंगे।

 

04. पैरों के नाखून छोटे रखें

04. पैरों के नाखून छोटे रखें

अपने पैरों को स्वस्थ रखना चाहते हैं तो नाखूनों को छोटा रखें। इससे आप फंगल इन्फेक्शन से बचेंगे। इसके अलावा नाखूनों में छोटे होने से धूल-मिट्टी, बारिश का पानी और अन्य अशुद्धियां जमा नहीं होंगी और आपके पैर स्वस्थ रहेंगे।