किशोरावस्था यानी टीनएज से लेकर वयस्क होने तक त्वचा से जुड़ी एक समस्या, जो हमारा पीछा ही नहीं छोड़ती वो है-मुहासों का होना. यह त्वचा से जुड़ी एक आम समस्या है और आपके न चाहने के बावजूद मुहांसे आपको हो ही जाते हैं. टीनएज गुज़र जाने के बावजूद मुहांसे होने के कई कारण होते हैं. तनाव, त्वचा की सही तरीके से देखभाल न करना और ग़ैर-सेहतमंद डायट इनमें से कुछ प्रमुख वजहे हैं.

हम यहां आपको डायट से जुड़े कुछ ऐसे टिप्स देने जा रहे हैं, जो आपकी त्वचा को पिम्पल्स से मुक्त रख सकते हैं.  क्योंकि यह बात तय है कि आप चाहे मुहांसे के लिए कितने ही ट्रीटमेंट्स क्यों न ले लें यदि आपका खानपान सही नहीं है तो उनका असर नहीं होगा. अपनी डायट में नीचे दी हुई चीज़ों को शामिल करते हुए शुरुआत कीजिए, ताकि आपको मुहांसों से छुटकारा मिल सके.

 

ज़िंक की अधिकता वाली चीज़ें खाएं

ज़िंक की अधिकता वाली चीज़ें खाएं

कई अध्ययनों के निष्कर्ष इशारा करते हैं कि ज़िंक की अधिकता वाली चीज़ें खाने से मुहांसे कम होते हैं. यह त्वचा का विकास करने वाला एक महत्वपूर्ण मिनरल है, जो हार्मोन्स के स्तर और चयापचय यानी मेटाबॉलिज़्म को भी नियमित रखता है. मछलियां और ख़ासतौर पर ऑएस्टर व क्रैब ज़िंक का अच्छा स्रोत हैं. काजू, टर्की, कीन्वा और दालों के सेवन से भी आपको ज़िक मिल सकता है.

 

डेयरी प्रोडक्ट्स का सेवन कम करें, इसके विकल्प अपनाएं

डेयरी प्रोडक्ट्स का सेवन कम करें, इसके विकल्प अपनाएं

डेयरी प्रोडक्ट्स में मौजूद ऐनाबॉलिक हार्मोन्स और नक़ली इन्सुलिन मुहांसों की समस्या को और गंभीर बना सकते हैं. यही वजह है कि त्वचा विशेषज्ञ और रिसर्चर्स कहते हैं कि यदि आपको मुहांसों की समस्या है तो दूध और चीज़ आदि खाने से बचें. यदि आपको दूध पीने की आदत है तो आप विकल्प के तौर पर बादाम का दूध यानी आमंड मिल्क या चावल का दूध यानी राइस मिल्क पी सकते हैं.

 

सेलेनियम वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करें

सेलेनियम वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करें

सेलेनियम ऐसा ऐंटी-ऑक्सिडेंट है, जिसके बारे में आपने ज़्यादा नहीं सुना होगा, पर ये त्वचा के लचीलेपन को बनाए रखने और जलन, सूजन जैसी चीज़ों से त्वचा को होने वाले नुक़सान से बचाए रखने के लिए बहुत ही ज़रूरी न्यूट्रिएंट है. सेलेनियम में मौजूद एंज़ाइम्स शरीर के डीटॉक्सिफ़िकेशन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस से शरीर की सुरक्षा करते हैं. सेलेनियम कई ऐसे खाद्य पदार्थों में पाया जाता है, जिन्हें हम रोज़मर्रा के खानपान में इस्तेमाल करते हैं, जैसे- लहसुन, अंडे, ब्राउन राइस, टूना और सामन मछलियां. तो यदि आपको मुहांसों की समस्या है तो आप इन चीज़ों को अपनी डायट का हिस्सा बनाएं.

 

बीटा-कैरोटिन वाले चीज़ों को खानपान में करें शामिल

बीटा-कैरोटिन वाले चीज़ों को खानपान में करें शामिल

बीटा-कैरोटिन लाल/नारंगी रंग का होता है, जो बहुत से ताज़े फल व सब्ज़ियों में पाया जाता है. हमारा शरीर बीटा-कैरोटिन को विटामिन A (रेटिनॉल) में बदल देता है, जो सेहतमंद त्वचा और आंखों के स्वास्थ्य के लिए ज़रूरी है. विटामिन A से भरपूर खाद्य पदार्थ, जैसे- प्याज़, गाजर, मटर, पालक, कद्दू आदि को अपने भोजन में शामिल करें और साफ़-सुथरी, चमकदार त्वचा पाएं.