आप सुबह से शाम तक स्किनकेयर रूटीन फॉलो करती हैं, अपना फेशियल अपोइंटमेंट कभी मिस नहीं करतीं, हेल्दी फूड खाती हैं और इसके बावजूद भी आपको पिम्प्ल्स होते हैं। अब इसके लिए आप चाहें हार्मोन्स को दोषी ठहराएं, जींस को या प्रदूषण को, लेकिन इसके अलावा आपकी आदतें भी कहीं न कहीं दोषी है।

जी हां, अपनी उन आदतों को जानकर आप बैक्टीरिया को अपनी स्किन से दूर रख सकते हैं और पिम्प्ल्स से राहत पा सकते हैं। हम आपको बता रहे हैं 5 ऐसी आदतें, जो आपकी स्किन को तकलीफ दे सकती है और उनको कैसे करें हैंडल।

 

तकिये का कवर

तकिये का कवर

क्या आपको याद है कि आखिरी बार कब आपने अपने तकिये का कवर बदला था। आपका तकिया धूल, ऑयल, जर्म्स आदि का घर होता है। जब आप बालों में तेल लगाते हैं, तब सोने से पहले तकिये पर कोई कपड़ा रखें या फिर अगले दिन तकिये का कवर बदल लें, ताकि कवर ने जो तेल सोख लिया है वो आपकी स्किन तक पहुंचकर आपको नुकसान न पहुंचा सके। यदि आपने तेल नहीं लगाया है तो भी हफ़्ते में एक बार तकिये का कवर ज़रूर बदल लें।

 

फोन

फोन

फोन ऐसी चीज़ है, जिसे आप खुद से अलग नहीं रह सकते, लेकिन यदि आपको पता चले कि उस पर बहुत से बैक्टीरिया बैठे हैं, तो आप उसे हाथ ही नहीं लगाएंगे। यदि आपको अपने फ़ेस के निचले हिस्से यानी चिन, मुंह और गालों पर पिम्प्ल्स नज़र आते हैं, तो इसका मतलब है कि यह आपके फोन के कारण है। हम जानते हैं कि आप फोन को खुद से दूर नहीं कर सकते, इसलिए अपने फ़ेस को हर रोज़ एंटीबेक्टीरियल वाइप्स से रगड़ कर साफ करें।

 

हेडफोन्स

हेडफोन्स

सुबह-सुबह जॉगिंग और वर्कआउट करते समय या फिर काम करते हुए हेडफोन्स लगाना यदि आपकी आदत में है तो एक बार सोच लीजिये, कहीं पिंपल्स का कारण ये तो नहीं। यदि आप कानों पर हेडफोन्स लगाते हैं, तो बहुत संभावना है कि आपके जॉ लाइन और टेंपल यानी माथे पर दाने आ जाएं। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि हेडफोन्स के पैडिंग पर जमा पसीना और बैक्टीरिया स्किन में चले जाते हैं, जिससे स्किन और स्कैल्प में प्रॉब्लम्स हो सकती हैं। इसलिए जब भी हेडफोन्स यूज़ करें, इसके बाद अपना फ़ेस ज़रूर क्लीन करें।

 

स्मोकिंग

स्मोकिंग

ये जानते हुए भी कि स्मोकिंग से सेहत खराब होती है और मुंह से बदबू आती है, आप इसे नहीं छोड़ना चाहते, लेकिन कम से कम अपनी स्किन की तो फिक्र कीजिये। आप यकीन करें या न करें सिगरेट पीना जितना बॉडी के लिए नुकसानदायक है, उतना ही स्किन के लिए भी नुकसानदायक है। यह फ़ेस तक ऑक्सीजन का फ्लो कम करता है, पोर्स को बड़ा करता है, स्किन पर रिंकल्स आते हैं और ड्रायनेस बढ़ाता है और ड्रायनेस से लड़ने के लिए आपकी स्किन अतिरिक्त ऑयल प्रोड्यूस करती है, जिससे पिंपल्स और एक्ने होते हैं।

 

वर्कआउट

वर्कआउट

यदि आप रोजाना जिम में वर्क आउट करने के बाद भी उन्हीं कपड़ों में घूमते रहते हैं तो ऐसा न करें। यदि पसीनेवाले कपड़े आपकी बॉडी पर ज़्यादा समय तक रहेंगे तो इससे एक्ने का खतरा बढ़ सकता है। वर्कआउट के बाद तुरंत नहाने जाएं और ऐसे कपड़े पहनें जो जल्दी सूख जाए, ताकि आप एक्ने से बचे रहें।