हर सुबह दुनियाभर की लड़कियां अपनी रोज़ाना की जद्दोजहद की शुरुआत अपना कवच पहन कर यूं करती हैं, जैसे युद्ध पर जा रही हों, क्योंकि इनमें से हर योद्धा यानी लड़की की जंग अलग तरह की है. इस जंग में शामिल है अपनी त्वचा को धूप, प्रदूषण (पलूशन) और अन्य बाहरी कारकों से पड़ने वाले प्रभाव से बचाना. 

और क्या है इन लड़कियों का कवच? ऐंटी-पलूशन प्रोडक्ट्स और सन प्रोटेक्शन. हम जानते हैं कि आप हमारी बात को पूरी तरह समझ गई हैं, है ना? हमें हर जगह पलूशन का सामना करना पड़ता है, क्योंकि प्रदूषण हमारे आसपास हर जगह यहां तक कि हवा में भी मौजूद है. इससे बचना नामुमकिन-सा है! पर आप पलूशन से अपनी त्वचा को पहुंचने वाले नुक़सान से बचाने के लिए कुछ प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते हुए इसके प्रभाव को कम तो कर ही सकती हैं.

हमें पता है कि हमारी बातें पढ़ कर आपके दिमाग़ में बहुत सारे सवाल उठने लगे होंगे, जैसे- कैसे, कौन-से प्रोडक्ट्स और इनका इस्तेमाल कैसे करूं...? यहां हम इन्हीं सवालों के जवाब दे कर आपकी मदद करने जा रहे हैं.

क्या आपको ऐंटी-पलूशन स्किनकेयर को अपने रोज़मर्रा की त्वचा की देखभाल के रूटीन में शामिल करना चाहिए?
 

क्या आपको ऐंटी-पलूशन स्किनकेयर को अपने रोज़मर्रा की त्वचा की देखभाल के रूटीन में शामिल करना चाहिए?

हम इस बात के बारे में आपको पहले ही बता चुके हैं कि हमारे आसपास और यहां तक कि हवा में भी प्रदूषण के कण मौजूद हैं... तो इस सवाल का जवाब है-हां! आपकी त्वचा दिनभर प्रदूषण और सूरज की यूवी किरणों के संपर्क में आती रहती है. हो सकता है कि अलग-अलग जगहों पर और आपके काम करने की परिस्थितियों के मुताबिक़ आपकी त्वचा पर इसका असर अलग-अलग मात्रा में पड़ता हो, पर इसका असर पड़ता ज़रूर है.

हवा में शामिल केमिकल्स, धूल-गंदगी के ये प्रदूषित कण इतने छोटे होते हैं कि वे आपकी त्वचा के भीतर पहुंच कर फ्री-रैडिकल्स का उत्पादन करते हैं, जो आपकी त्वचा पर मौजूद कोशिकाओं यानी स्किन सेल्स की सेहत के लिए नुक़सानदेह होते हैं. ये आपकी त्वचा के काम करने की स्वाभाविक प्रक्रिया को प्रभावित करते हैं और पिग्मेंटेशन, बारीक़ रेखाओं और मुहांसों को बढ़ावा देते हैं.     

ऐंटी-पलूशन स्किनकेयर प्रोडक्ट्स में कौन-से इन्ग्रीडिएंट्स का होना आपकी त्वचा के लिए फ़ायदेमंद होगा?
 

ऐंटी-पलूशन स्किनकेयर प्रोडक्ट्स में कौन-से इन्ग्रीडिएंट्स का होना आपकी त्वचा के लिए फ़ायदेमंद होगा?

ऐंटीऑक्सिडेंट्स: पलूशन आपकी त्वचा में फ्री-रेडिकल्स का उत्पादन करता है और ये फ्री-रेडिकल्स आपकी त्वचा के लिए हानिकारक होते हैं. वहीं ऐंटीऑक्सिडेंट्स, फ्री-रेडिकल्स को बेअसर कर देते हैं. इस बात को समझना बिल्कुल आसान है, है ना?

विटामिन C, A और E: जब रोज़ाना ही पलूशन की वजह से त्वचा को नुक़सान पहुंचता है तो त्वचा पर नई कोशिकाओं का बनना यानी सेल रिनूअल की गति का सही रहना ज़रूरी हो जाता है. अत: ध्यान रखें कि आपके स्किनकेयर प्रोडक्ट्स में इन विटामिन्स की मौजूदगी हो, क्योंकि ये विटामिन्स कोलेजन के उत्पादन को बनाए रखने में अहम् भूमिका निभाते हैं,

चारकोल: इस इन्ग्रीडिएंट में त्वचा की सतह से अशुद्धियों, बैक्टीरियाज़ और धूल-गंदगी  को खींचने की अद्भुत क्षमता होती है. जब आप इस इन्ग्रीडिएंट वाले प्रोडक्ट से चेहरा धोती हैं तो त्वचा पर मौजूद सभी अशुद्धियां निकल जाती हैं और त्वचा साफ़-सुथरी नज़र आने लगती है.

अपने रोज़मर्रा के रूटीन में आप ऐंटी-पलूशन स्किनकेयर प्रोडक्ट्स को कैसे शामिल कर सकती हैं?
 

अपने रोज़मर्रा के रूटीन में आप ऐंटी-पलूशन स्किनकेयर प्रोडक्ट्स को कैसे शामिल कर सकती हैं?

* अपनी त्वचा को ऐसे प्रोडक्ट से साफ़ यानी क्लेंज़ करने से शुरुआत करें, जिसमें चारकोल हो, ताकि इससे होने वाले फ़ायदे मिलें. चारकोल त्वचा पर मौजूद अशुद्धियों को सौम्यता से अवशोषित कर लेता है और इन्हें आपके चहरे से दूर कर देता है.

*  विटामिन A, C और E से भरपूर मॉइस्चराइज़र का इस्तेमाल करें, क्योंकि ये विटामिन्स सेल रिनूअल की प्रक्रिया को बढ़ावा देते हैं.

* आख़िरी और सबसे महत्वपूर्ण बात- सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें, हमेशा! कम से कम 30 एसपीएफ़ वाले सनस्क्रीन को अपनी त्वचा के सबसे अच्छे साथी की तरह अपनाएं. धूप में निकलने से कम से कम 30 मिनट पहले इसे चेहरे व शरीर के खुले हिस्सों पर लगाएं. हर तीन से चार घंटे के बाद इसे दोबारा लगाना यानी रीअप्लाइ करना बिल्कुल न भूलें.