क्या आप अब भी वही क्लींज़र और मोइश्चराइज़र इस्तेमाल कर रहे हैं, जो आप अपने स्कूल के ज़माने में किया करते थे? और क्या इतने सालों में आपने कभी अपना स्किन केयर प्रोडक्ट चेंज नहीं किया? तो अब समय आ गया है कि आप अपने स्किन केयर प्रोडक्ट को बदल दें। स्किन केयर प्रोडक्ट्स को स्किन की ज़रूरत के अनुसार बदल देना चाहिए। मौसम और समय के अनुसार स्किन बदलती रहती है और इसकी प्रॉब्लम्स भी। ऐसा इसलिए भी क्योंकि, आपके स्किनकेयर प्रोडक्ट्स में मौजूद इंग्रेडियंट्स आपके स्किन प्रॉब्लम्स से लड़ने में एक अहम भूमिका अदा करते हैं और स्किन संबंधित नई समस्याओं से बचाव करते हैं। इसलिए बेहतर स्किन के लिए ये ध्यान में रखना बहुत ज़रूरी है कि आप किस तरह का इंग्रेडियंट इस्तेमाल कर रहे हैं।

हम आपको बताते हैं कि आपकी स्किन के अनुसार आपको किस तरह के इंग्रेडियंट्स इस्तेमाल करना चाहिए।

 

ओपन पोर्स

ओपन पोर्स

 

जिन लोगों के पोर्स ओपन होते हैं, उन्हें अक्सर ब्लैकहेड्स और व्हाइट हेड्स की समस्या से जूझना पड़ता है। इस समस्या से निपटने के लिए आपको ऐसे प्रोडक्ट्स इस्तेमाल करने चाहिए, जिनमें लैक्टिक एसिड हो, क्योंकि ये स्किन को एक्सफोलिएट करते हैं और पोर्स को क्लॉग नहीं होने देते। क्ले या चारकोल बेस्ड फ़ेस मास्क स्किन से गंदगी को बाहर निकालते हैं, पोर्स को क्लॉग होने से बचाते हैं और स्किन का टेक्सचर बेहतर बनान में मदद करते हैं। सैलीसिलिक क्लींजर इस्तेमाल करें, यह सीबम के एक्सेस प्रोडक्शन को कंट्रोल करता है, जिससे ऐक्ने और ऑयली स्किन संबंधित प्रॉब्लम्स नहीं होंगी।

 

डार्क स्पॉट्स और पिग्मेंटेशन

डार्क स्पॉट्स और पिग्मेंटेशन

डार्क स्पॉट्स और पिग्मेंटेशन से लड़ने के लिए सबसे बड़ा इंग्रेडियंट है विटामिन सी। विटामिन सी सीरम इस्तेमाल करने से न सिर्फ डार्क स्पॉट्स कम होंगे, बल्कि इससे आपकी स्किन ब्राइट भी होगी। इसके साथ ही ब्रॉड स्पेक्ट्रम सनस्क्रीन जिसका एसपीएफ 30 पीए+++ या इससे ज़्यादा हो और जिसमें ज़िंक ऑक्साइड या टाइटेनियम डाईऑक्साइड हो, इस्तेमाल करें। इसके इस्तेमाल से स्पॉट्स कम होंगे। इसके अलावा ग्लायकोलिक एसिड मेलानिन के प्रोडक्शन को धीमा कर देता है, जिससे डार्क स्पॉट्स फिर से नहीं आते।

 

डल स्किन

डल स्किन

ऐसे बहुत सारे इंग्रेडियंट्स हैं, जो डल स्किन की परेशानी से निजात दिलाते हैं और इस मामले में विटामिन सी सबसे ऊपर है। यह एक ऐंटी ऑक्सीडेंट है। विटामिन सी का यही गुण ओक्सीडेटिव डैमेज से बचाता है, डार्क स्पॉट्स को हल्का करता है और आपकी स्किन को एक ग्लो देता है। एज़ेलेइक एसिड पिगमेंटेड स्किन को लाइट करता है और स्किन के टेक्सचर को एक जैसा बनाता है। इस इंग्रेडियंट को अपने स्किन केयर रूटीन में ज़रूर शामिल करें।

बीबी सलाह: Dermalogica Biolumin-C Serum Brightening Vitamin C Serum

 

बढ़ती उम्र के संकेत

बढ़ती उम्र के संकेत

कोलेजन ऐसा इंग्रेडियंट है, जिसे आपको अपने स्किन केयर रूटीन में सबसे पहले नंबर पर रखना चाहिए। यह स्किन को समय से पहले मैच्योर होने से रोकता है और स्किन को टाइट करता है। रेटिनोल सेल्स का टर्नओवर बढ़ाने में मदद करता है और फाइन लाइंस, रिंकल्स व उम्र बढ़ाने वाले लक्षणों को दूर रखता है साथ ही स्किन को ट्रान्स्फ़ोर्म करता है। एक और इंग्रेडिएंट है जिसे आपको स्किन केयर रूटीन में शामिल करना चाहिए सेरामाइड्स- यह हायड्रेशन को स्किन में सील कर देता है, जिससे स्किन नर्म, मुलायम व नमीयुक्त रहती है।

बीबी की सलाह: Pond's Age Miracle Wrinkle Corrector Day Cream SPF 18 PA+++