जोई ट्रिब्बिआनी ने एक बार कहा था: “क्यों भगवान क्यों? हमारे डील हुई थी कि औरों को बूढ़ा करो, लेकिन मुझे नहीं!” लेकिन क्या करें, सच तो यही है कि बढ़ती उम्र भला किसे पसंद आती है? हर साल चेहरे पर बढ़ती उम्र के लक्षण दिखाई देने लगते हैं और हम इंटरनेट का सहारा लेते हैं कि इस बढ़ती उम्र को टालने के लिए जाने क्या उपाय मिल जाए। उम्र बढ़ना एक नेचुरल प्रक्रिया है, जो 20 की उम्र के बाद और 30 के पहले नज़र आने लगती है। यदि आप भी इसे लेकर चिंतित हैं, तो हम आपको बता रहे हैं इसके कुछ कारण और इससे निपटने के कुछ उपाय ताकि हम प्रीमेच्योर एजिंग को ठीक तरीके से समझ पाएं।

 

01. प्रीमेच्योर एजिंग के कारण और लक्षण क्या हैं?

01. प्रीमेच्योर एजिंग के कारण और लक्षण क्या हैं?

समय से पहले उम्र बढ़ने की पहचान फाइन लाइंस, पिगमेंटेशन, स्किन में इलास्टिसिटी की कमी और उसके बेजान होने से पता चलती है। जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, कोलेजन, हाइलूरोनिक एसिड और इलास्टिन के खोने से स्किन की बाहरी मैट्रिक्स यानी एक्स्ट्रासेल्यूलर मैट्रिक्स (जो त्वचा के गोंद के रूप में कार्य करता है) कमजोर होती जाती है। वहीं अत्यधिक प्रदूषण, तनाव, खराब डायट या दूषित भोजन और हमारे मोबाईल की स्क्रीन की ब्लू लाइट हमें समय से पहले, कहीं ज्यादा तेजी से बूढ़ा बनाती जा रहे है।

 

02. लोगों में बढ़ती उम्र के प्रति जागरूकता पैदा करना

02. लोगों में बढ़ती उम्र के प्रति जागरूकता पैदा करना

आज से 10 साल पहले लोग डर्मेटोलॉजिस्ट के पास एंटी एजिंग प्रोसीजर के लिए तब जाते थे, जब वो 40 वें या 50 वें उम्र में होते थे। अब 25 की उम्र के बाद ही लड़कियां एंटी एजिंग ट्रीटमेंट के उपाय ढूँढने लगी हैं। ऐसा इसलिए कि अब लाइफस्टाइल बदल गई है और इसके साथ इस बात के प्रति जागरूकता भी बढ़ गई है कि 25 की उम्र के बाद स्किन में कॉलेजन की कमी आने लगती है।

 

03. एंटी-एजिंग थेरेपीज़

03. एंटी-एजिंग थेरेपीज़

एंटी-एजिंग थेरेपीज़, जैसे कि स्किन रेजुवेनेशन प्रोसीजर्स, लेज़र स्किन रिसरफेसिंग, एडवांस्ड एक्सफोलिएशन प्रोसीजर्स और प्रॉफ़िलो जैसी हायलूरॉनिक एसिड आधारित इंजेक्शन कुछ स्किनकेयर प्रोसीजर्स है, जो खोए हुए कनेक्टिव एलिमेंट्स को रिचार्ज करती हैं और यह बढ़ती उम्र को रोकने का एक महत्वपूर्ण तरीका हैं।

 

04. एंटी-एजिंग प्रोडक्ट्स

04. एंटी-एजिंग प्रोडक्ट्स

एंटी-एजिंग थेरेपीज़ लेने के अलावा बहुत जरूरी है कि आप क्लीनजिंग, टोनिंग और मॉइश्चराइज़िंग रूटीन भी अपनाएं और रोजाना सनस्क्रीन लगाएं, वह भी हर 2-3 घंटे के अंतराल में। आपको सलाह दी जाती है कि आप आंटी-एजिंग स्किनकेयर, जैसे- Dermalogica Biolumin-C Serum Brightening Vitamin C Serum लगाएं, जो स्किन को ब्राइट बनाता है, उसमें कसाव लाता है और महीन लाइंस को नज़र नहीं आने देता। यह अल्ट्रा-स्टेबल विटामिन सी टेक्नोलॉजी से भरपूर है, जो ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस व एजिंग के शुरू होने से पहले ही इससे लड़ता है

 

05. डायट

05. डायट

अंदर से स्किन पर ग्लो आए, इसके लिए जरूरी है कि आप पर्याप्त पानी पिएं और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर डायट लें ताकि बढ़ती उम्र के लक्षण को थोड़ा पीछे कर सकें।