हम सभी महिलाएं अपने बालों का बहुत ख़्याल रखते हैं, उन्हें बड़े जतन से संवारते हैं. फिर चाहे बाल लंबे हों या छोटे. बालों को ड्राइ और फ्रिज़ी होने से रोकने के लिए हम क्या कुछ नहीं करते? और बालों को कोमल, चमकदार और सेहतमंद बनाने की हर मुमकिन कोशिश करने में भी हम कभी पीछे नहीं रहते. फिर चाहे सलून में घंटों समय बिताना पड़े या पर्फ़ेक्ट हेयर ट्रीटमेंट कराने के लिए ढेर सारे पैसे ख़र्च करने पड़ें या फिर अनगिनत घरेलू नुस्ख़े ही क्यों न आज़माने पड़ें... और इस संघर्ष का अंत तो जैसे कभी होता ही नहीं है, है ना?

हममें से किसकी चहत नहीं होती कि जब वो सोकर उठे तो किसी क्लासिक हॉलिवुड फ़िल्म की हिरोइन की तरह नज़र आए, जिसके बाल पहले से ही ख़ूबसूरती से संवरे होते हैं, ताकि पूरा दिन मज़े में बीते... लेकिन आह! ये तो बस कल्पना है. हमारी व्यस्त और तनावग्रस्त दिनचर्या के साथ-साथ काम के लंबे घंटों और प्रदूषण को सलाम, जिनकी वजह से हमारा हर दिन ‘बैड हेयर डे’ में तब्दील हो जाता है.

हम भागमदौड़ वाली ज़िंदगी जी रहे हैं, जहां ‘तेज़ी से काम होने’ का मतलब ‘बेहतर ढंग से काम होना’ समझा जाता है! तो इसीलिए हम अपने बालों को थपथपाकर सुखाने की बजाय ब्लो ड्राइ करने को ज़्यादा आसान, तेज़ गति से होने वाला और बेहतर काम समझते हुए, इसे तुरंत अपना लेते हैं. पर क्या कभी आपने सोचा है कि लंबे समय तक इसे अपनाने के क्या परिणाम हो सकते हैं? तो हम बताते हैं, इसके नतीजे बहुत अच्छे तो नज़र नहीं आते हैं. आइए इस पर चर्चा करते हैं...
 

ड्रायर से सावधान रहें

ड्रायर से सावधान रहें

ये कोई राज़ की बात नहीं है कि ज़रूरत से ज़्यादा गर्मी (हीट) आपके बालों के लिए नुक़सानदेह है. बालों को ब्लो ड्राइ करने से ‘फ़्लैश ड्राइंग’ होती है, जो आपके बालों की नमी को खींच लेती है. जिससे बालों के क्यूटिकल्स पर प्रभाव पड़ता है. ये सूखकर मुरझा जाते हैं और जल्द ही टूट सकने जैसे बन जाते हैं. जब बाल उलझे हुए होते हैं तो यह दबाव क्यूटिकल्स में दरार पैदा कर देता है, जिससे बाल क्षतिग्रस्त हो कर टूटने योग्य हो जाते हैं.

 

ड्राइ बालों पर हेयर ड्रायर इस्तेमाल न करें

ड्राइ बालों पर हेयर ड्रायर इस्तेमाल न करें

यदि आपके बाल ड्राइ हैं तो ब्लो ड्रायर आपके लिए किसी बुरी ख़बर से कम नहीं है. पहले से ही टूटने की कगार पर मौजूद बालों पर सीधे हीट का प्रहार बालों को बुरी तरह नुक़सान पहुंचाने का बहुत ही आसान तरीक़ा है.

यदि आप फिर भी अपने क्षतिग्रस्त बालों पर ड्रायर का इस्तेमाल करते हुए उनके टेक्स्चर के साथ खिलवाड़ कर रही हैं तो आगे अपने बालों को हुए इस नुक़सान से उबारने के लिए एक लंबी और महंगी प्रकिया अपनाने का टिकिट ख़ुद ही काट रही हैं.

मतलब यह कि यदि आप अपने बालों को लंबे समय से ब्लो ड्राइ करती रहीं हैं तो समझिए कि आप सेहतमंद और चमकते हुए बालों को अलविदा कहने का इंतज़ाम करती रही हैं.

 

तो क्या ब्लो ड्रायर से दूरी बना लेना ही इसका समाधान है?

तो क्या ब्लो ड्रायर से दूरी बना लेना ही इसका समाधान है?

दरअस्ल, यदि ऐसा हो सके तो ये एक आदर्श स्थिति होगी! पर हम जानते हैं कि यह व्यावहारिक समाधान नहीं है, क्योंकि ड्रायर्स तब आपका बहुत अच्छी तरह साथ देते हैं, जब आपके पास समय की कमी हो. और इसे पूरी तरह छोड़ देना... नामुमकिन-सा लगता है. तो हम आपको कहेंगे कि इसका इस्तेमाल जितना कम से कम करें, उतना ही बेहतर होगा.

इसे इस्तेमाल करने का सही तरीक़ा क्या है?

पहले आप अपने बालों को खुली हवा में सूखने दें और बाद में हेयर ड्रायर को लो हीट सेटिंग पर इस्तेमाल करें, ताकि आपके बालों को जितनी कम हो सके उतनी कम क्षति पहुंचे. बालों को नुक़सान से बचाने के लिए आप ड्रायर को बालों से छह इंच की दूरी पर रखें और लगातार ऊपर से नीचे की ओर चलाती रहें.