दूध से दही और दही से छाछ बनता है। छाछ बनाने के लिए दही को मथना पड़ता है। घी निकालने के बाद जो पेय बचता है उसे छाछ कहते हैं। छाछ में दूध व दही की अपेक्षा फैट व कैलोरी, दोनों कम होते हैं। यह नमकीन व खट्टी होती है और पीने में स्वादिष्ट होती है, इसलिए यह काफी प्रसिद्ध पेय है। इसे मट्ठा भी कहा जाता है। यह भारतीय पारंपरिक पेय पदार्थों में से एक है। इसका इस्तेमाल अक्सर गर्मियों में पीने के लिए किया जाता है, क्योंकि इसकी तासीर ठंडी होती है और यह शरीर में ठंडक पहुंचाता है। खनिज और विटामिन से युक्त होने के कारण यह पाचन तंत्र के लिए फायदेमंद होता है, इसलिए इसे भोजन के पाद पिया जाता है। छाछ में उच्च मात्रा में पोटेशियम, विटामिन B12, कैल्शियम, राइबोफ्लेविन मौजूद होता है इसके अलावा फास्फोरस का भी बढ़िया स्रोत है। छाछ का उपयोग पीने के अलावा सब्ज़ी बनाने में किया जाता है छाछ से अनेक प्रकार के व्यंजन बनाये जाते हैं।

 

1. छाछ सेहत के लिए है फ़ायदेमंद

छाछ सेहत के लिए है फ़ायदेमंद

1. छाछ में बायो एक्टिव प्रोटीन होता है, जो ब्लड प्रेशर को घटाने का काम करता है। प्रतिदिन छाछ या मट्ठे का सेवन करने से ब्लड प्रेशर

2. नियंत्रित रहता है और हृदय संबंधी दिक्कत नहीं होती हैं।

3. छाछ अपच, भूख न लगने व कब्ज़ के समस्या में फ़ायदा पहुंचाते हैं।

4. छाछ कोलेस्ट्रॉल को घटाने में एक प्राकृतिक औषधि का कार्य करता है। इसका नियमित सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल में रहता है।

5. छाछ पीने से शरीर में पानी की कमी दूर होती है।

6. यह एसिडिटी और पेट की जलन को दूर करता है।

7. पेशाब में दर्द हो तो छाछ पीने से आराम मिलता है।

8. इससे डायरिया का खतरा टलता है।

9. यह अल्सर जैसी बीमारी में असरकारक है।

10. छाछ में कैल्शियम बहुत मात्रा में होता है इसलिए यह ऑस्टियोपोरोसिस में मदद करता है।

11. यह शरीर में रोग प्रतिरोधक शक्ति उत्पन्न करता है।

12. छोटे बच्चों को रोज़ाना छाछ पिलाने से दांत निकलने में तकलीफ नहीं होती।

13. वज़न कम करना हो तो छाछ पीना चाहिए, फ़ायदेमंद होता है।

 

2. त्वचा के लिए छाछ के फायदे

त्वचा के लिए छाछ के फायदे

1. छाछ में ब्लीचिंग इंग्रेडिएंट्स होते हैं। इससे दाग-धब्बे और टैनिंग को हटाया जा सकता है।

2. छाछ में प्रोबायोटिक लैक्टिक एसिड होता है जो फेशियल मास्क के रूप में प्रयोग होता है। इसे चेहरे पर लगाने से झुर्रियां कम होती हैं।

3. छाछ का सेवन करने से त्वचा सालों साल जवान रहती है।

4. छाछ में आटा मिलाकर बनाए गए लेप को लगाने से त्वचा की झुर्रियां कम होती हैं।

5. छाछ धूप से झुलसी त्वचा को भी ठीक करने में मदद करती है।

6. गुलाब की जड़ को छाछ में पीसकर चेहरे पर लगाने से मुंहासे खत्म हो जाते हैं। स्किन को एक्सफोलिएट करने के लिए आप छाछ का इस्तेमाल कर सकते हैं।

7. एड़ियां फटने की समस्या होने पर छाछ बनाने पर निकलने वाला ताज़ा मक्खन लगाएं। ऐसा करने से फटी एड़ियां जल्दी ठीक हो जाती हैं।

 

3. बालों के लिए छाछ के फायदे

बालों के लिए छाछ के फायदे

1. बाल झड़ने की समस्या हो तो छाछ लगाएं। इसके लिए बासी छाछ से सप्ताह में दो दिन बालों को धोना फ़ायदेमंद होता है।

2. छाछ में नींबू का रस मिलाकर सिर में 15 मिनट तक मालिश करें और फिर गुनगुने पानी से बालों को धो लें। इससे सिर की खुजली और डैंड्रफ दूर होता है। डैंड्रफ के लिए आप सिरका और नींबू के रस का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

3. छाछ लगाने से बाल जड़ से काले हो जाते हैं। इसके लिए करी पत्ते को पीस लें और छाछ में मिलाकर बालों की जड़ों में लगाएं। ऐसा हफ़्ते में 2-3 बार नियमित रूप से करें। बाल सफ़ेद होना बंद हो जाएंगे।

4. छाछ नेचुरल हेयर स्ट्रेटनर का भी काम करती है। इसे नारियल के दूध के साथ मिलाकर लगाने पर बाल नैचुरली सीधे हो जाते हैं।

5. बालों को मज़बूत बनाना हो तो छाछ फ़ायदेमंद होता है। इससे बालों की ग्रोथ भी अच्छी होती है।

6. छाछ में मौजूद प्रोटीन बालों को पोषण देता है और सभी जरूरी पोषक तत्वों की पूर्ति करता है।

 

4. छाछ कैसे करें इस्तेमाल

छाछ कैसे करें इस्तेमाल

1. छाछ में नमक और एक चम्मच पिसी हुई अजवाइन मिलाकर पीने से बवासीर में लाभ होता है।

2. छाछ में भुना हुआ जीरा मिलाकर पीना भी लाभदायक है।

3. छाछ में सोंठ, काली मिर्च, पिप्पली और यवक्षार का मिश्रण मिलाकर सेवन करने से कफ से होने वाले रोगों में लाभ मिलता है।

4. गाय के दूध से बनी छाछ में नमक मिलाकर सुबह-सुबह पीने से पेट के कीड़े मर जाते हैं।

5. छाछ में शहद मिलाकर दिन में तीन बार पीने से दस्त बंद हो जाते हैं।

6. छाछ में सोंठ व सेंधा नमक मिलाकर पीने से गैस से होने वाले रोगों से आराम मिलता है।

7. मीठे छाछ में शक्कर मिलाकर पीने से पित्त दूर होता है।

 

5. छाछ के नुकसान

छाछ के नुकसान

1. सर्दी-खांसी में छाछ पीने से सर्दी बिगड़ सकती है।

2. यह मांसपेशियों व नसों में ब्लड सर्क्युलेशन में रुकावट डालती है।

3. गठिया, जोड़ों के दर्द व मांसपेशियों का दर्द हो तो छाछ न पिएं।

4. यह जोड़ों में अकड़न की समस्या पैदा करती है।

5. सांस की तकलीफ में छाछ न पिएं।

6. दिन में छाछ पीना फ़ायदेमंद होता है, लेकिन शाम को छाछ पीना नुकसानदायक होता है।

7. बुखार व कमजोरी में छाछ पीना नुकसानदायक है।

8. यदि आपको एक्ज़िमा है तो छाछ का सेवन न करें।

9. गुर्दे की तकलीफ में छाछ का सेवन हानिकारक माना जाता है।

 

6. छाछ पिते समय सावधानी बरते

छाछ पिते समय सावधानी बरते

1. छाछ को पीतल, तांबे व कांसे के बर्तन में न रखे। इन धातु से बने बर्तनों में छाछ या दही रखने से वह ज़हर समान हो जाती है।

2. मिट्टी के 2बर्तन में रखने से छाछ के गुण बढ़ जाते है l

3. बारिश के मौसम में दही-छाछ का इस्तेमाल न करें।

4. यदि गठिया व जोड़ों के रोगी इसे पीना चाहें तो इसमे छौंक लगाकर पिएं।