सोने जाने के ठीक पहले अपने रात के स्किनकेयर रूटीन में आप जिन प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करती हैं, वो किसी जादुई छड़ी से कम नहीं होते. जब आप सो रही होती हैं, वे आपकी त्वचा पर अपना जादू बिखेर रहे होते हैं. यही वजह है कि ब्यूटी एक्स्पर्ट्स रात के स्किनकेयर रूटीन का हमेशा पालन करने को कहते हैं. जब आप सो रही रही होती हैं, आपका शरीर अराम की अवस्था में होता है, इस समय सूरज भी नहीं होता तो इस समय ये प्रोडक्ट्स आपकी त्वचा की मरम्मत के काम को बख़ूबी अंजाम देते हैं.

अक्सर महिलाएं जो दो प्रोडक्ट्स रात के समय इस्तेमाल करती हैं, वो हैं स्लीपिंग मास्क और नाइट क्रीम. आप चाहे इनमें से जो भी इस्तेमाल करती हों और चाहे किसी भी वजह से करती हों, हम आपको बताना चाहते हैं कि ये दोनों एक जैसे बिल्कुल नहीं होते. यहां हम वो सभी बातें बताने जा रहे हैं जो आपको इनके बारे में मालूम होनी चाहिए

 

नाइट क्रीम क्या है?

नाइट क्रीम क्या है?

नाइट क्रीम्स लगभग मॉइस्चराइज़र्स की तरह होती हैं. उनका काम होता है त्वचा को पोषण देना और नमी पहुंचाना. इनमें ऐसी सक्रिय सामग्रियां यानी ऐक्टिव इन्ग्रीडिएंट्स भी होते सकते हैं, जो बारीक़ रेखाओं और झुर्रियों को हटाकर उम्र के निशान कम करने का काम करते हों. नाइट क्रीम्स, डे क्रीम्स की तुलना में ज़्यादा गाढ़ी होती हैं और इसमें ऐसे इन्ग्रीडिएंट्स होते हैं, जिन्हें दिन के समय लगाना सही नहीं होता, जैसे-रेटिनॉल. नाइट क्रीम्स रोज़ाना इस्तेमाल की जा सकती हैं और ये आपकी त्वचा को सेहतमंद और जवां रहने की रोज़ना की खुराक देती हैं.

 

स्लीपिंग मास्क क्या है?

स्लीपिंग मास्क क्या है?

स्लीपिंग मास्क्स जैसे स्टेरॉइड्स वाली नाइट क्रीम की तरह होते हैं. स्लीपिंग मास्क्स कोरिया की देन है, जो आपातकालीन यानी इमर्जेन्सी ब्यूटी ट्रीटमेंट है. ये नाइट क्रीम्स की तुलना में कहीं अधिक शक्तिशाली इन्ग्रीडिएंट्स से भरे होते हैं और आपकी त्वचा को रातभर में वो सेहत व चमक देने की ताक़त रखते हैं, जो आप हमेशा से चाहती थीं. आप इसका इस्तेमाल किसी ख़ास दिन से एक रात पहले करें, ताकि अगले दिन आपके चेहरे के ग्लो का नशा हर देखने वाले पर चढ़कर बोले. बाज़ार में अलग-अलग स्किन टाइप के लिए अलग-अलग स्लीपिंग मास्क्स उपलब्ध हैं और ये आपके सीरम्स, ऑइल्स और क्रीम्स को आपकी त्वचा के भीतर ही सील करने का काम करते हैं.

 

दोनों में से बेहतर क्या है?

दोनों में से बेहतर क्या है?

हमें पता है कि अब आप क्या सोच रही हैं-स्लीपिंग मास्क्स तो नाइटक्रीम्स से कहीं ज़्यादा बेहतर हैं और सभी को नाइट क्रीम्स की जगह स्लीपिंग मास्क्स का इस्तेमाल शुरू कर देना चाहिए, है ना? पर आपकी सोच ग़लत है! बहुत ज़्यादा प्रबल होने के कारण स्लीपिंग मास्क्स रोज़मर्रा के इस्तेमाल के लिए नहीं होते. इसका ज़्यादा इस्तेमाल करने से आपको मनचाहे नतीजे नहीं मिलने वाले. इसमें शामिल इन्ग्रीडिएंट्स एक रात के इस्तेमाल के लिए सौम्य होते हैं. अत: रोज़ना इनका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. रोज़ आप नाइट क्रीम का ही इस्तेमाल करें, पर सप्ताह में एक या दो बार आप स्लीपिंग मास्क लगाएं, ताकि आपकी त्वचा का लचीलापन और टेक्स्चर अच्छा बना रहे.