कोरोना महामारी ने हमारी लाइफ को बहुत ज़्यादा प्रभावित किया है। हमारी लाइफस्टाइल पूरी तरह बदल गई है। मास्क पहने बगैर आप घर से बाहर नहीं जा सकते और हर थोड़ी देर में हाथ सैनिटाइज़ करना। ये सब न्यू नॉर्मल हो गया है। साथ ही मास्क ज़्यादा देर तक पहने रहने से स्किन प्रॉब्लम्स भी बढ़ गई है।

अब आप जानना चाहेंगे कि यह क्यों होता है? लंबे समय तक मास्क पहने रहने से आपके फ़ेस पर एक हयूमिड एनवायरोमेंट बन जाता है, जिससे पोर्स क्लॉग हो जाते हैं और पिंपल्स होने का डर रहता है। दरअसल यह प्रॉब्लम इतनी ज़्यादा बढ़ गई है कि इंटरनेट ने इस प्रॉब्लम को एक नया नाम दिया है, वो है मास्कने, यानि मास्क पहनने से होने वाले ऐक्ने।

अब आप मास्क पहनने से तो बच नहीं सकते तो क्यों न स्किन की ज़रूरत के अनुसार अपना स्किन केयर रूटीन ही बदल दें। आपकी मुश्किल को हल करने के लिए हमने बात की मुंबई की डर्मेटोलोजिस्ट और एस्थेटिक फिजीशियन डॉक्टर पल्लवी सुले से मास्कने के बारे में जानने की कोशिश की और साथ ही यह भी इस समस्या से कैसे निपटें।

 

दिन में दो बार फ़ेस क्लीन करें

जानें क्या है मास्कने और कैसे इससे निपटें

इस लॉकडाउन में स्किन केयर हैबिट पूरी तरह बदल गई है और स्किन केयर उतनी नहीं हो पाती है। डॉक्टर पल्लवी सलाह देती हैं दिन में दो बार ग्लायकोलिक या सैलिसिलिक एसिड बेस्ड क्लींज़र से फ़ेस वॉश करने की। वो कहती हैं, “यदि आपकी स्किन पर ऐक्ने होने की संभावना ज़्यादा रहती है तो आपको आपको ज़रूरत है ऐसे फ़ेस वॉश की जो ऑयल को कंट्रोल करे, क्लॉग्ड पोर्स से निपटे औयर उन बैक्टीरिया का खात्मा करे जिनसे ऐक्ने हो सकते हैं। यदि आपकी स्किन ड्राय या सेंसिटिव है तो आप माइल्ड क्लींज़र लें, जिसमें हार्श केमिकल न हों।“ Simple Kind To Skin Refreshing Face Wash हर टाइप की स्किन वालों के लिए उपयुक्त है और यह आपकी स्किन को सुरक्षित भी रखती है।

 

कॉटन मास्क पहनें

जानें क्या है मास्कने और कैसे इससे निपटें

इसके बाद सबसे ज़रूरी है ये देखना कि आपके मास्क का फैब्रिक क्या है। डॉक्टर पल्लवी का मानना है कि कॉटन मास्क सबसे बेहतर है। N-95 मास्क फ्रंटलाइन हेल्थ वर्कर्स के लिए ही ठीक है। वो कहती हैं, “सॉफ्ट कॉटन मास्क, जिसमें सांस लेना आसान हो और जो लंबे समय तक पहना जा सके, वही परफेक्ट है। यह भी ध्यान रखें कि मास्क न इतना ढीला हो कि वो बार-बार नीचे गिरे न ही इतना टाइट हो कि स्किन इर्रिटेट होने लगे।

 

हैवी स्किनकेयर मेकअप प्रोडक्ट्स न लगाएं

जानें क्या है मास्कने और कैसे इससे निपटें

“अगर आप मास्क पहन रही हैं तो हैवी मेकअप न करें, न ही पिग्मेंटेड लिपस्टिक लगाएं, ताकि पोर्स क्लॉग न हो और ऐक्ने से बचाव हो सके।“ कहती हैं, डॉक्टर पल्लवी। बेहतर होगा कि मेकअप के बजाय आप एक लाइटवेट डेली मोइश्च्चराइज़र लगाएं, जिसका एसपीएफ 30 हो। Ponds White Beauty Sun Protection Day Cream SPF 30 आपकी स्किन को नमी देगा और मास्क पहनने से होने वाली टैन लाइंस से भी छुटकारा देगा।

 

हर वॉश के बाद अपने मास्क को ज़रूर धोएं

जानें क्या है मास्कने और कैसे इससे निपटें

मास्क पहनने से स्किन पर हयूमिड एनवायरोमेंट बनता है, जिससे बैक्टीरिया बढ़ते हैं और जब ये ऑयल, धूल-मिट्टी और पसीने से मिलते हैं तो स्किन प्रॉब्लम्स खड़ी कर देते हैं। “यदि आप ऐसे मास्क यूज़ कर रहे हैं, जिसे फिर से इस्तेमाल किया जा सके तो हर बार इस्तेमाल करने के बाद इसे माइल्ड साबुन से धो लें। इससे ऐक्ने और स्किन इर्रिटेशन से बचेंगे।

 

स्किन को नियमित रूप से एक्सफोलिएट करें

जानें क्या है मास्कने और कैसे इससे निपटें

स्किन प्रोब्लम्स न हों और यह हेल्दी भी रहे इसके लिए ज़रूरी है स्किन को एक्सफोलिएट करें। “दिनभर मास्क पहने रहने से पोर्स क्लॉग हो जाते हैं, जिससे ऐक्ने की समस्या हो जाती है। इससे बचने के लिए हफ्ते में दो बार स्क्रब करें,” ऐसा मानना है डॉक्टर सुले का। आप चाहें तो अपनी स्किन को रोज़ाना माइल्ड एक्सफोलिएंट जैसे- Dermalogica Daily Superfoliant से स्क्रब करें, ताकि डेड सेल्स से छुटकारा मिले, क्योंकि ये ऐक्ने होने का एक बड़ा कारण है।