महिलाओं में गंजापन की समस्या को कैसे करें दूर- जानें एक्सपर्ट की राय

Written by Suman SharmaNov 30, 2023
महिलाओं में गंजापन की समस्या को कैसे करें दूर- जानें एक्सपर्ट की राय

महिलाओं में गंजापन, जिसे एंड्रोजेनिक एलोपेसिया या महिला पैटर्न हेयर लॉस भी कहते हैं। यह कई कारणों से होता है। FPHL महिलाओं के लिए काफी तकलीफदेह हो सकता है, क्योंकि इसमें बालों का पतला होना बहुत अधिक दिखाई देता है और महिलाएं आत्मविश्वास खोने लगती हैं। लेकिन यह ख़ुशी की बात है कि महिला पैटर्न गंजापन के इलाज करने के कई तरीके हैं।

अगर इसे सही समय पर किया जाये तो आसानी से बाल दोबारा भी आ सकते हैं। हमने इस संदर्भ में एक एक्सपर्ट से बातचीत की, ताकि सही जानकारी आप तक पहुंच पाए। डॉ दिव्या शर्मा के अनुसार, “फीमेल पैटर्न गंजापन, क्राउन और स्कैल्प के सामने के हिस्से पर बालों के घनत्व में कमी को कहते हैं, जिसमें आगे की हेयरलाइन कमजोर दिखने लगती है। महिलाओं में मुख्यत: मिड फ्रंटल स्कैल्प में बाल पतले दिखाई देने लगते हैं. यह जो थिनिंग होती है यानी पतलापन दिखाई देता है, वह तीन पैटर्न में होता है। - जब बालों को मिडलाइन से पार्ट करके कॉम्ब किया जाता है, इससे स्कैल्प अधिक नजर आने लगता है। - दूसरा पैटर्न बालों के टेम्पल और वर्टेक्स में नजर आता है। - तीसरा पैटर्न बहुत कम देखने में आता है और ज़्यादातर पुरुषों में होता है.

 

फीमेल पैटर्न गंजापन के कारण क्या-क्या हैं ?

एक्सपर्ट की राय

जैसा कि ऊपर दिखाया गया है, इसके कई कारण हैं, जो महिला पैटर्न गंजापन के कारक बनते हैं, लेकिन अगर हम FPHL के प्रमुख कारणों पर ध्यान केंद्रित करते हैं, तो हम पाते हैं कि जेनेटिक्स इसमें एक प्रमुख भूमिका निभाती है। खासकर अगर पुरुष या महिला के तत्काल रिश्तेदार पुरुष या महिला पैटर्न बालों के झड़ने से पीड़ित हैं। इसके अलावा, पुरुष हार्मोन (एण्ड्रोजन) की भूमिका, स्पष्ट रूप से पुरुष पैटर्न गंजापन से पीड़ित पुरुषों में मिलती है, जबकि एफपीएचएल में उनकी भूमिका स्पष्ट रूप से नजर नहीं आती है। FPHL में प्रोग्रेसिव हेयर फॉलिकल मिनिचुराईजेशन होता है और धीर-धीरे टर्मिनल फॉलिकल वेलस फॉलिकल्स में बदल जाते हैं। इन वेलस फॉलिकल में छोटे हेयर साइकल होते हैं, और यह एनजेन फेज की कमी के कारण होता है। और इनकी वजह से ही छोटे और फाइन बाल हेयर शाफ़्ट के उत्पादन का कारण बन जाता है।

 

FPHL का इलाज क्या है?

एक्सपर्ट की राय

FPHL के इलाज को दो तरीकों में बांटा जा सकता है। ट्रॉपिकल और सिस्टेमेटिक

 

1.ट्रॉपिकल

एक्सपर्ट की राय

महिलाओं में हेयर लॉस को रोकने के लिए, यह एक अच्छा और लोकप्रिय समाधान है। मिनॉक्सीडिल एक पोटेशियम चैनल ओपनर है और यह हेयर सायकल के विकास के चरण को बढ़ाकर बालों के विकास को आगे बढ़ाता है। मिनोक्सिडिल फॉलिकल के आस-पास ब्लड के सप्लाई को बढ़ाता है, लेकिन अब भी इसका सही मेकेनिज्म कोई नहीं जानता है।

हालाँकि, कुछ ऐसे तथ्य भी हैं, जो आपको इस उपचार के बारे में जानना चाहिए: -मिनोक्सीडिल को 3 से 6 महीने के उपयोग के बाद 30-40% सुधार दिखाने के लिए जाना जाता है। -लंबे समय तक उपयोग और चेहरे पर बालों के बढ़ने का जोखिम (यदि लापरवाही से किया जाए तो) हो सकता है। -मरीजों को यह भी चेतावनी दी जानी चाहिए कि उपचार के पहले महीनों के दौरान, थोड़ी परेशानी हो सकती है। -उपचार के साइड इफेक्ट असामान्य हैं और इसमें एलर्जी या चिड़चिड़ापन और डर्मेटाइटिस में सूजन भी शामिल है, जो आमतौर पर सॉल्यूशन प्रोपलीन ग्लाइकोल से संबंधित है।

 

2.सिस्टेमिक ड्रग्स

एक्सपर्ट की राय

एंड्रोजेन ब्लॉकर्स जैसी सिस्टेमेटिक दवाई का उपयोग असामान्य हार्मोनल प्रोफाइल वाले रोगियों में किया जा सकता है। ऐसे रोगियों को एंडोक्रिनोलॉजिस्ट की राय की आवश्यकता हो सकती है। हालांकि, ओरल दवाएं अपने स्वयं के साइड इफेक्ट के साथ-साथ थकान, स्पॉटिंग, अनियमित पीरियड्स और टेंडर ब्रेस्ट जैसी परेशानियों से जूझ रहे रोगियों में होती है।

इसके अलावा, प्लेटलेट-रिच प्लाज्मा थेरेपी (पीआरपी) और माइक्रोनिंगलिंग जैसी कुछ प्रक्रियाएं बालों के विकास में सुधार करने में अधिक प्रभावी हो सकती हैं ,क्योंकि वे हेयर फॉलिकल्स को फिर से जीवंत करने का काम करती हैं। अफ़सोस जनक है कि जो हेयर से जुड़ी समस्याओं के निदान हेयर सप्लीमेंट्स पर विश्वास करते हैं, अब भीअमीनो एसिड, बायोटिन, जिंक और अन्य माइक्रो न्यूट्रिएंट्स, पोषक तत्वों के साथ ओरल सप्लीमेंटेशन का लाभ अभी भी बहस का विषय है।

 

3. एक्सपर्ट की राय

एक्सपर्ट की राय

डॉ शर्मा के अनुसार, “सामान्य लोगों की तुलना में जब FPHL रोगियों में आयरन का स्तर कम होता है , इसलिए उन्हें अपने पोषण पर नज़र रखना बहुत महत्वपूर्ण होता है। आपको शारीरिक रूप से सक्रिय होना चाहिए और एक स्वस्थ, कम कार्बोहाइड्रेट और उच्च प्रोटीन आहार पसंद करना चाहिए।

" इसके अलावा, वजन में वृद्धि, व्यस्त लाइफस्टाइल और अनियमित निद्रा, यह सभी हार्मोनल असंतुलन को जन्म दे सकते हैं। साथ ही टाइट हेयरस्टाइल से बचें। एक कैफीन-बेस्ड शैम्पू अच्छा हो सकता है। ग्रीन टी का एक्सट्रेक्ट , जिनसेंग और कैफीन-आधारित शैंपू फायदेमंद हो सकते हैं। बालों को सीधा करने के लिए केमिकल तरीकों से बचें। अगर आप इस तरह की स्थिति से गुजर रहे हैं तो आपको यह परेशानी हो सकती है।

Suman Sharma

Written by

Author at BeBeautiful
2265 views

Shop This Story

Looking for something else