आजकल जिसे देखो, बालों की समस्या से परेशान है, फिर चाहे वो बालों के टूटने की समस्या हो, झड़ने की हो या डैंड्रफ। इसका कारण अगर आप ढूंढें तो कई हो सकते हैं, हेयर प्रोडक्ट्स जो आप यूज़ करती हैं, आपकी खराब लाइफ स्टाइल या फिर सही पोषण की कमी।

थोड़े बहुत बाल झड़ना तो सामान्य है, जैसे कि रोजाना यदि 50-100 तक बाल झड़ते हैं, तो कोई बात नहीं, लेकिन यदि इससे ज़्यादा झड़ते हैं, तो बात चिंताजनक है। हमने आपकी इस मुश्किल को हल करने के लिए बात की डर्मेटोलोजिस्ट डॉक्टर रश्मि शेट्टी से। उनका मानना है कि यदि हम बालों की समस्या का हल चाहते हैं, तो पहले कुछ चीजों को समझना बहुत ज़रूरी है। जैसे कि ये जानना कि बालों के झड़ने, पतले होने और टूटने में क्या फर्क है।

 

बालों के झड़ने, पतले होने और टूटने में क्या फर्क है

बालों के झड़ने, पतले होने और टूटने में क्या फर्क है

डॉक्टर रश्मि शेट्टी कहती हैं, "जब आपके बाल जड़ों से टूटने लगते हैं, तो उसे कहते हैं बालों का गिरना। थोड़े बहुत बालों का गिरना आम बात है, लेकिन यदि ये बहुत ज़्यादा गिर रहे हैं तो उसे कहते हैं बालों का झड़ना। "

बालों के टूटने के बारे में डॉक्टर का कहना है, "जब आपके बाल टूटते हैं, यानी ज़रूरी नहीं कि वो जड़ों से ही टूटें, वो कहीं से भी टूट सकते हैं, इसे कहते हैं बालों का टूटना। इसका मुख्य कारण है बालों में नमी की कमी और क्यूटिकल की हेल्थ। आपकी हेयर स्टाइलिंग हैबिट्स, पोषण की कमी, जैसे- फैटी एसिड की कमी, प्रोटीन्स की कमी या फिर कर्ली बाल। ये सभी बाल टूटने का कारण हैं। बालों के टूटने की समस्या से छुटकारा पाना इतना मुश्किल नहीं है, बस, आपको अपने हेयर केयर रूटीन में फैटी एसिड्स, हेयर ऑयल और हायड्रेटिंग ट्रीटमेंट्स शामिल करना चाहिए, ताकि बालों को नमी मिले और उनका टूटना बंद हो।

 

बालों के झड़ने का कारण

बालों के झड़ने का कारण

बालों के झड़ने के पीछे कई कारण हो सकते हैं, जैसे- हॉर्मोनल, पोषण संबंधी और लाइफस्टाइल संबन्धित। डॉक्टर रश्मि कहती हैं, "हॉर्मोनल हेयर फॉल के कई कारण हैं, जैसे- थायरोइड हार्मोन, मेल हार्मोन, प्रोलेक्टिन और एस्ट्रोजेन के कारण। यदि पोषण संबंधी समस्या है, तो ज़िंक, कैल्शियम और विटामिन डी की कमी से भी ये परेशानी हो सकती है। लाइफस्टाइल कारण में केमिकल ट्रीटमेंट्स, बालों को टाइट बांधना और स्कैल्प की गंदगी आदि। "

इसके अलावा तनाव, पूरी नींद न लेना, प्रेग्नेंसी, मेनोपोज़ और बढ़ती उम्र भी इसका कारण हो सकते हैं।

 

बालों के झड़ने की समस्या के लिए क्या करें

बालों के झड़ने की समस्या के लिए क्या करें

बालों की समस्या से बचने के लिए बैलेंस्ड डायट लेना बहुत ज़रूरी है, जिसमें सही मात्रा में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और फैट्स हों। डॉक्टर रश्मि कहती हैं, "सही लाइफस्टाइल होना बहुत ज़रूरी है, ताकि हमारी बॉडी के अंदर का सिस्टम सही रहे। तभी हमारे बॉडी के हार्मोन्स ठीक रहते हैं। यदि आपकी लाइफस्टाइल ऐसी है कि आप पूरा खाना समय पर नहीं खा पाते तो अपने डॉक्टर से सप्लिमेंट्स के लिए बात करें। इससे काफी फायदा होगा।"

इसके अलावा बालों की सही देखभाल भी ज़रूरी है। आपका शेड्यूल चाहे कितना भी बिज़ी हो। स्कैल्प हाइजीन बहुत ज़रूरी है, तभी बालों की सेहत ठीक रहेगी। डॉक्टर रश्मि कहती हैं, "अपने हेयर टाइप को देखते हुए सही हेयर प्रोडक्ट्स चुनें। लेकिन यदि आपको हेयर फॉल के साथ एक्ने और पिग्मेंटेशन की भी समस्या होती है, तो इससे पहले की यह समस्या और बढ़ जाय, बेहतर होगा कि आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें।"

 

बालों के झड़ना रोकने के लिए मेडिकल ट्रीटमेंट

बालों के झड़ना रोकने के लिए मेडिकल ट्रीटमेंट

"यदि उपरोक्त सभी उपाय करने के बावजूद आपके बालों का झड़ना नहीं रुकता है, तो डॉक्टर से बात करके मेडिकल ट्रीटमेंट लें। हो सकता है कि डॉक्टर आपको कोई क्रीम, मलहम या खाने की दवाई दें। ये मेडिकल ट्रीटमेंट्स तीन महीने तक चल सकते हैं। " कहती हैं डॉक्टर रश्मि।

इसके अलावा आप बालों को उगाने के लिए लेजर थेरेपी करवा सकती हैं। एक और उपाय है, वो यह कि आप हेयर ऑक्सीज़न ट्रीटमेंट लें। इसमें शुद्ध ऑक्सीज़न व ज़रूरी इंग्रेडिंट्स को हाई प्रेशर के साथ स्कैल्प में डाला जाता है।