एक्ने, एक्जिमा, पिगमेंटेशन, प्री मैच्योर एजिंग या बड़े पोर्स ! इन सब समस्या से हर कोई कभी न कभी जूझता है। क्या आप भी इन सारी परेशानियों से जूझ रहे हैं? अगर आपके साथ भी ऐसा हो रहा है तो, आप बिल्कुल सही जगह आये हैं। हम इस बात पर विश्वास करते हैं कि बात जब स्किन केयर की होती है तो बेहद ज़रूरी है कि हमेशा एक्सपर्ट से सही सलाह ली जाए। और हम बिल्कुल ऐसा ही करते हैं।

हमने इसया एस्थेटिक्स की डर्मेटोलॉजिस्ट और फाउंडर डॉ किरण लोहिया से स्किनकेयर और स्किनकेयर रूटीन के बारे में जानने की कोशिश की है, ताकि जो लोग इन पांच स्किन प्रोब्लंस से जूझ रहे हैं, उन्हें कुछ राहत मिले। तो आइये, जानने की कोशिश करते हैं कि डर्मेट अप्रूव्ड स्किनकेयर रूटीन कैसी होनी चाहिए, किस तरह का भोजन करना चाहिए, क्या नहीं खाना चाहिए, ताकि आपकी परेशानी का हल निकल सके।

 

एक्ने

एक्ने

क्या नहीं खाना चाहिए

निश्चित तौर पर चीनी और मीठी चीजें और हाई ग्लाइसेमिक फूड्स, जो खाद्य पदार्थ, इन्सुलिन तेज गति से बढ़ाते हो, यह हार्मोन का संतुलन भी खराब करते हैं और हॉर्मोन के स्ट्रेस को शरीर में बढ़ा देते हैं।

डेयरी प्रोडक्ट्स और व्हे प्रोटीन को भी न खाएं, क्योंकि इनसे भी हार्मोन अनियंत्रित हो जाते हैं।

सुबह से रात तक का स्किनकेयर रूटीन

सुबह की शुरुआत अपने चेहरे की क्लीनिंग से करें, फिर उस पर फेस सीरम लगाएं और सन ब्लॉक लगाना न भूलें। रात में सोने से पहले एक क्लींज़र, सीरम और मॉइस्चराइजर लगाना न भूलें।

एक्ने प्रोन स्किनकेयर टिप्स

उन क्लींज़र को अपनी स्किनकेयर रूटीन में शामिल करें, जो सैलिसिलिक एसिड या बेंज़ोइल पेरोक्साइड युक्त हो।

फेस लोशन बेंटोनाइट क्ले युक्त हों, तो अच्छा होगा और यदि अगर माइल्ड एक्ने हैं तो एएचए (AHAs), ज़िंक ग्लुकोनेट और रेटिनॉल या रेटिनाल्डहाइड को अपने स्किन केयर रूटीन में शामिल करें।

चेहरे को ज्यादा न धोएं, दिन भर में दो से तीन बार चेहरा धोना काफी है, वरना यह चेहरे को ड्राई कर देगें, जिसकी वजह से ऑयल प्रोडक्शन बढ़ जायेगा।

बालों में अधिक हेयर स्टाइलिंग पॉमेड्स या वैक्स के इस्तेमाल से भी मुंहासे बहुत आते हैं। अत्यधिक मुंहासे होने पर डर्मेटोलॉजिस्ट से मिलें।

 

एक्ज़िमा

एक्ज़िमा

क्या नहीं खाना चाहिए

हेल्दी फैट्स और ओमेगा 3 फैटी एसिड्स युक्त भोजन खाएं।

 नारियल के तेल या घी में खाना पकाएं।

डेयरी और ग्लूटेन वाले इंफ्लेमेटरी फूड्स न खाएं।

ऐसे खाने जो, आपको जंच नहीं रहे, जिसे खाने से आपको परेशानी हो रही हो, वैसे भोजन का ट्रैक रखें।

सुबह से रात तक के लिए स्किन केयर

दिन में दो बार स्ट्रांग एक्ज़िमा ट्रीटिंग बॉडी लोशन अपने नम स्किन पर लगाएं। वैसलीन या फिर एक अच्छा नेचुरल ऑयल, जैसे तिल का तेल या फिर नारियल का तेल लगाएं।

स्किनकेयर टिप्स एक्ज़िमा के लिए

ऐसे क्रीम्स इस्तेमाल में लाएं, जिसमें सीरमाइड्स के साथ ओमेगा 3 फैटी एसिड्स भी हों। वैसलीन पेट्रोलियम जेली का इस्तेमाल करें।

ऐसे कोई भी प्रोडक्ट जिसमें फोम हों, उन्हें इस्तेमाल न करें। उनकी जगह नहाने के लिए क्लींज़िंग ऑयल का इस्तेमाल करें।

हल्के गर्म पानी से नहाएं, लेकिन पांच मिनट से ज्यादा नहीं।

 

लार्ज पोर्स

लार्ज पोर्स

क्या नहीं खाना चाहिए

ईमानदारी से कहूं तो ये जो प्रॉब्लम है, सही स्किन केयर ट्रीटमेंट्स से ही ठीक हो सकती है, लेकिन फिर भी आपको प्रोसेस्ड फूड्स, डेयरी, ग्लूटेन और शक्कर नहीं खानी चाहिए, क्योंकि यह कोलेजन की मात्रा कम करने का कारण बनती है और इसकी वजह से बार-बार मुंहासे आने लगते हैं।

सुबह से रात तक का स्किनकेयर रूटीन

दिन भर में दो बार फेस वॉश से चेहरा ज़रूर धोएं, क्ले बेस्ड मॉइस्चराइज़र दिन में ज़रूर लगाएं और अपनी नाइट केयर रूटीन में रेटिनॉल युक्त चीजें शामिल करें।

स्किनकेयर टिप्स लार्ज पोर्स के लिए

अपनी स्किन को स्क्रब न करें। सैलिसिलिक एसिड क्लींज़र और क्ले बेस्ड लोशन, जिसमें रेटिनॉल हों, उसका अधिक इस्तेमाल करें। यह कोलेजन को बढ़ाने और पोर्स को टाइट रखने में मदद करता है।

 

पिग्मेंटेशन

पिग्मेंटेशन

ये खाएं

एंटी ऑक्सीडेंट से भरपूर फ़ूड आयटम्स अपनी डायट में शामिल करें, जिसमें आंवला, संतरा और बेरी जैसे खाद्य पदार्थ शामिल हों। अपने खाने में रंग-बिरंगी सब्जियां ज़रूर शामिल करें। बहुत सारा पानी पिएं।

सुबह से रात तक का स्किनकेयर रूटीन

विटामिन सी क्लींज़र का सुबह इस्तेमाल करें और रात में अल्फा हाइड्रो एसिड्स (AHAs) इस्तेमाल करें। इन्हें अपनी स्किन केयर रूटीन में शामिल करना बेहद ज़रूरी है। इसके अलावा सीरम्स, क्रीम्स या ऐसे लोशन इस्तेमाल करें, जिसमें विटामिन सी हो, खासतौर से सुबह के समय। सनस्क्रीन इस्तेमाल करना भी न भूलें। रात में क्लींजिंग के बाद एंटी पिग्मेंटेशन क्रीम अपने चेहरे पर लगाएं, उसके बाद मॉइस्चराइज़र भी ज़रूर लगाएं।

स्किनकेयर टिप्स, पिग्मेंटेशन को रोकने के लिए

एंटी पिग्मेंटेशन के लिए ऐसे क्रीम इस्तेमाल करें, जो कोजिक एसिड, अल्फा-अरबुटिन, रेटिनॉल, लिकोरिक एक्सट्रेक्ट, अल्फा हाइड्रो एसिड्स(AHAs), अज़ेलैक एसिड से युक्त हों और इन्हें दिन में कम से कम दो बार ज़रूर लगाएं। हर चार घंटे में मिनिरल एस पी एफ (SPF 30) सनब्लॉक ज़रूर लगाएं। सूर्य की किरणों से होने वाले डैमेज से अपनी स्किन को बचाने के लिए पॉलीपॉडियम ल्यूकोटोमस सप्लीमेंट्स लें ग्लोइंग स्किन के लिए ग्लूटाथिओन और विटामिन सी से युक्त सप्लीमेंट्स दिन में कम से कम दो बार लें।

 

प्रीमैच्योर एजिंग

प्रीमैच्योर एजिंग

क्या नहीं खाना चाहिए

कोलेजन के ग्लायकेशन और डीग्रेडेशन कम करने के लिए मीठी चीजें छोड़ें, खासतौर से चीनी। ऐसा कोई भी फूड आयटम, जिससे सूजन की समस्या बढ़े। बहुत सारा पानी पिएं। इंटरमिटेंट फास्टिंग करें। सुबह से रात तक का स्किनकेयर रूटीन सुबह और शाम में एक अच्छा क्लींज़र, जो बहुत सख्त न हो, वो इस्तेमाल करें। विटामिन सी और फेरुलिक एसिड सीरम का इस्तेमाल दिन में और रात में रेटिनॉल का इस्तेमाल करें। इसके बाद, ह्यलुरॉनिक एसिड प्लम्पिंग सीरम और पेप्टाइड क्रीम लगाएं।

स्किनकेयर टिप्स प्रीमैच्योर एजिंग को रोकने के लिए

केवल नॉन फोमिंग क्लींज़र्स का इस्तेमाल करें। विटामिन सी क्रीम्स, जिसमें फरुलिक ऐसिड हों, प्रबल एंटीऑक्सीडेंट हों, साथ में जिसमें एंटी एजिंग के गुण हों, उनका इस्तेमाल करें। रेटिनॉल, बकुचिओल ( bakuchiol) या एएचए हों, उसे अपनी स्किनकेयर रूटीन में शामिल करें। पेप्टाइड बेस्ड क्रीम्स को भी एंटी एजिंग के लिए इस्तेमाल करना चाहिए। लाइन प्लम्पिंग ह्यलुरॉनिक एसिड और स्टेम सेल युक्त प्रोडक्ट्स भी आपको अपनी एंटी एजिंग स्किनकेयर रूटीन में शामिल करना चाहिए।