घर में काम-काज करते हुए या जिम में वर्क आउट करते हुए बालों की पोनी या बन बना लेने से बेहतर कुछ नहीं हो सकता, इससे बालों को मैनेज नहीं करना पड़ता। लेकिन क्या बालों को खोलने के बाद आपको तकलीफ़ होती है? इसका मतलब है कि आपकी स्कैल्प में तकलीफ़ है और आपके बालों में दर्द है।

बालों को कसकर बांधने से रूट्स और नर्व्ज़ के सिरों पर ज़ोर आता है। यदि आपके बाल बांधने का एक निश्चित तरीका है तो इससे हर रोज़ आपके स्कैल्प पर दबाव पड़ता है, जिससे उस जगह पर तकलीफ़ बढ़ जाती है। यदि आपको लगता है कि भला इससे क्या नुकसान हो सकता है, तो एक बार फिर सोच लें। हम आपको बता रहे हैं कि किस तरह आप इससे छुटकारा पा सकती हैं।

 

पोनीटेल्स

पोनीटेल्स

जिम में वर्कआउट करते समय या काम-काज करते समय सबसे ईज़ी होता है पोनीटेल बनाना। यह आसानी से बन जाता है और काम करने में बाल रुकावट नहीं डालते। लेकिन टाइट पोनीटेल से स्कैल्प पर बहुत दबाव पड़ता है, जिससे सिर दर्द की समस्या हो सकती है। आपके हेयर फोलिकल्स में जो नर्व एंडिंग्स हैं, वो आपके बॉडी के अन्य हिस्सों से ज़्यादा सेंसिटिव होता है और टाइट पोनीटेल से बाल दर्द हो सकते हैं। इसे ठीक करने के लिए सबसे पहले बाल खोलें और उस जगह पर मसाज करें, जहां आपको दर्द है। बालों को बांधने के लिए टाइट रबर यूज़ न करें। इसकी जगह स्क्रंचीज़ या स्पाइरल हेयर टाइज़ यूज़ करें, जो ज़्यादा कसती नहीं है और इससे बाल भी एक जगह पर बंधे रहते हैं।

 

हेयर स्टाइलिंग

हेयर स्टाइलिंग

बार-बार बालों को स्टाइल करने के लिए ऐसे टूल्स यूज़ करना, जिससे बाल खींचते हैं, जैसे- ब्लो ड्रायर्स और स्ट्रेटनर्स से बालों में दर्द हो सकता है। जड़ों पर ज़्यादा दबाव व तनाव पड़ने से न सिर्फ बालों में दर्द होगा, बल्कि बाल टूटने भी लगेंगे। ज़रूरी नहीं है कि आप जब भी बाल धोएं, ब्लो ड्रायर या स्ट्रेटनर यूज़ करें। ये तभी करें, जब आपको किसी इवेंट में जाना हो या कोई ख़ास दिन हो। इससे आपके बालों की सेहत अच्छी रहेगी।

 

बालों को न धोना

बालों को न धोना

जी हां, बालों को लंबे समय तक न धोने और ज़्यादा ड्राय शैंपू लगाने से भी बालों में दर्द हो सकता है। इसके पहले कि आप नहाने के लिए जाएं, हमारी बात ध्यान से सुनें। बालों में गंदगी होने से और स्कैल्प में ऑयल होने से स्कैल्प में सीबम जमा हो जाता है, जिससे सिर में खुजली होने लगती है और दर्द होने लगता है। तो यदि आप बाल जल्दी-जल्दी नहीं धोते हैं तो अब शुरू कर दीजिये।

 

रेग्युलर डाई या ब्लीच करना

रेग्युलर डाई या ब्लीच करना

यदि आप अपने बालों को अक्सर डाई या ब्लीच करते हैं, तो आपने महसूस किया होगा कि इसके बाद स्कैल्प सेंसिटिव हो जाता है। कारण हम बताते हैं। हेयर डाइज़ और कलर्स में केमिकल्स होते हैं, जो स्कैल्प का पीएच लेवल कम कर देते हैं, जिससे इर्रिटेशन होता है और बाद में इससे दर्द होने लगता है।