अक्सर हम अपने बालों के लिए खुद ही अनुमान लगा लेते हैं कि ये पतले है, मोटे हैं या बहुत कर्ली है। जबकि हर किसी के बालों का टेक्सचर अलग होता है। कुछ पैदाइशी होता है तो कभी समय के साथ इसका टेक्सचर बदल जाता है।

जब हम खुद ही अपने बालों का हेयर टाइप का अनुमान लगाकर प्रोडक्ट्स खरीदकर यूज़ करते हैं, तो इससे मनचाहा रिज़ल्ट नहीं मिल पाता। इसलिए ज़रूरी है कि आप अपने हेयर टेक्सचर को जान लें और इसके लिए हमारे पास एक आसान तरीका भी है। आइये, जानते हैं इसके बारे में।

 

हेयर टेक्सचर

हेयर टेक्सचर

आपका हेयर टेक्सचर आपके बालों का नेचुरल शेप या पैटर्न है। हालांकि, यह जानना बहुत आसान है, लेकिन इसके बारे में श्योर कैसे हों, ये जानना ज़रूरी है। अगली बार जब बालों आप शैम्पू करें तो बालों को खुद-ब-खुद सूखने दें। यानी बालों को धोने के बाद इस पर हेयर सीरम, लीव-इन कंडीशनर या कोई और प्रोडक्ट्स यूज़ न करें। यदि आपके बाल मुड़ते नहीं हैं और इसमें कर्व नहीं आता है, तो इसका मतलब है कि आपके बाल स्ट्रेट हैं। इसे टाइप 1 हेयर भी कहा जाता है। यदि आपको बालों में हल्का-सा कर्व या ‘S’ पैटर्न नज़र आता है, तो ये वेवी यानी टाइप 2 हैं। यदि आपके बालों में अच्छा खासा कर्ल नज़र आता है, तो ये टाइप 3 है और यदि आपके बालों में टाइट कर्ल है तो यह कोइली या टाइप 4 है।

 

हेयर डेनसिटी या टाइप

हेयर डेनसिटी या टाइप

हेयर डेनसिटी का मतलब बालों की थिकनेस यानी मोटाई से है। यदि आप इसके बारे में सही जानकारी रखते हैं, तो यह आपको सही प्रोडक्ट खरीदने में मदद करेगा। हेयर टाइप्स तीन तरह के होते हैं- फाइन, मीडियम और मोटा। यह जानने के लिए अपने हेयर ब्रश में से अपना एक बाल निकालें और एक प्लेन सतह या व्हाइट बैकग्राउंड पर रखें। इसके बाद सिलाई वाला धागा जो 6 इंच लंबा हो, उसे अपने बाल के पास रखें। अब ध्यान से देखें कि यदि बाल धागे से पतले दिख रहे हैं, तो इसका मतलब वो फाइन यानी महीन है। यदि ये धागे से मोटे लग रहे हैं, तो आपका हेयर टाइप थिकर यानी मोटा है और यदि इन दोनों के बीच का है, तो वो मीडियम है।