उम्र से पहले बालों का सफ़ेद होना, आज के मॉर्डन लाइफस्टाइल की एक बहुत बड़ी समस्या हो गई है। आजकल 20 साल की उम्र से ही महिलाओं में सफेद बाल नज़र आने लगते हैं। ऐसे में आपके पास एक ही उपाय रह जाता है कि आप किसी भी तरह से कुछ घरेलू उपाय अपनाकर बालों को सफ़ेद से काला कर पाएं । लोग कहते हैं कि बालों की सफेदी आपके बुद्धिजीवी होने का संकेत होती है, लेकिन यह इस बात का संकेत भी कि आपकी बॉडी अधिक मेलामाइन प्रोड्यूस नहीं कर रही है और आपके बालों की एजिंग वक़्त से पहले हो रही है। ऐसे में पहला स्टेप है, एक अच्छी डायट, इससे बालों की सेहत पर काफी फर्क पड़ेगा।

अपनी डायट में ताज़े फल, सब्जियां और हरी सब्जियां वगैरह खाएं और साथ ही दही को भी अपनी डायट में शामिल करें। यह डायट आपकी स्किन और बालों, दोनों को स्मूद व हेल्दी बनाएगा। जहां तक बालों की सफेदी को ठीक करने की बात है तो आपको केमिकल के इस्तेमाल की बजाय किचन में ही उपलब्ध चीजों को अपनाना चाहिए। बालों को नेचुरल तरीके से ब्लैक किया जा सकता है। बहुत सारे केमिकल ट्रीटमेंट्स की बजाय आपको कुछ नेचुरल होम रेमिडीज के बारे में जानना चाहिए, तो आइये आपको बालों के सफ़ेद होने से जुड़ी तमाम जानकारी, मिथ, कारण और उनके उपाय के बारे में बताएं।

 

बालों को सफेद होने से बचाने के लिए घरेलू उपाय

1 . बालों को सफेद होने से बचाने के लिए घरेलू उपाय

अब घरेलू उपायों के बारे में जान लेते हैं। ताकि घर में नेचुरल तरीके से बालों के सफ़ेद होने की प्रक्रिया को रोका जा सके।

 

आंवला और मेथी सीड्स

आंवला और मेथी सीड्स

3 बड़े चम्मच तेल (नारियल, जैतून, बादाम) में 6-7 टुकड़े आंवले के डाल दें और कुछ मिनट तक उबालें। 1 बड़ा चम्मच मेथी पाउडर डालें। रात में इसे ठंडा होने के लिए छोड़ दें, इसे पूरे स्कैल्प पर अच्छी तरह लगाएं। सुबह धोने के लिए एक हल्के हर्बल शैम्पू का प्रयोग करें।

आंवला और मेथी मिल कर सफ़ेद बालों पर शानदार तरीके से काम करता है। आंवला विटामिन सी का खास स्रोत होता है और आयुर्वेद में बालों की सभी प्रकार की समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए इसका प्रयोग होता रहा है। मेथी या मेथी के सीड्स कई पोषक तत्वों से भरे होते हैं और इसमें मौजूद तत्व बालों को समय से पहले सफ़ेद होने से रोकता है और बालों को तेजी से बढ़ने में भी मदद करता है।

 

ब्लैक टी रिंस

ब्लैक टी रिंस

1 कप पानी में 2 बड़े चम्मच ब्लैक टी और एक चम्मच नमक डालकर उबालें। इसे अच्छे से ठंडा करें और अपने धुले हुए बालों पर लगाएं। फिर इसे ड्राई होने दें। ग्रे स्ट्रैंड्स को काला करने के लिए बार-बार इस तरीके को दोहराएं।

ब्लैक टी में कैफीन होता है ,जो एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर होता है और बालों को नेचुरल तरीके से डार्क करने में मदद करता है व बालों को बढ़ने में मदद करता है। यह बालों को चमकदार और मजबूत भी बनाता है। बालों को ब्लैक टी से धोने से न केवल आपको नेचुरल तरीकों से सफ़ेद बालों से छुटकारा पाने में मदद मिलेगी, बल्कि आपके बाल पहले से अधिक चमकदार दिखेंगे।

 

आलमंड ऑयल और लेमन जूस

आलमंड ऑयल और लेमन जूस

2:3 के रेशियो( अनुपात) में बादाम का तेल और नींबू का रस मिलाएं। अपने स्कैल्प और बालों में अच्छे से मसाज करें। इसके बाद अपने स्कैल्प को 30 मिनट बाद धो लें। बादाम के तेल में विटामिन ई होता है, जो बालों के लिए बेहद फायदेमंद होता है। यह जड़ों को पोषण देता है और समय से पहले सफेद होने से रोकता है।

नींबू का रस न केवल बालों में चमक बढ़ाता है, बल्कि बालों को तेजी से बढ़ने में मदद करता है, साथ ही बालों को सेहतमंद बनाता है । बादाम का तेल और नींबू का रस दोनों ही आसानी से मिल जाते हैं, इससे आप आसानी से सफ़ेद बालों से छुटकारा पा सकती हैं।

 

हिना और कॉफी

हिना और कॉफी

उबलते गर्म पानी में 1 बड़ा चम्मच कॉफी पाउडर मिलाएं। इसके बाद इसे अच्छी तरह ठंडा कर लें, ठंडा हो जाने के बाद इसका हिना या मेहंदी के साथ पेस्ट बना लें। इसे कुछ घंटों के लिए ढक कर रख दें।इसके बाद, आपको जो भी तेल पसंद है, उस तेल का 1 बड़ा चम्मच इसमें मिलाएं और बालों में पूरी तरह से अच्छे से लगा लें, फिर एक घंटे बाद धो लें।

हिना या मेहंदी एक प्राकृतिक कंडीशनर और एक अच्छा रंग भी है और इसमें जब कॉफी मिला लिया जाये तो इसके रिजल्ट शानदार होते हैं। सफेद बालों को काला करने के लिए मेहंदी वास्तव में एक बेहतरीन उपाय है।

 

करी पत्ता और ऑयल

करी पत्ता और ऑयल

एक कप तेल में एक कप करी पत्ता डाल कर उबालें, जब तक कि तेल काला न हो जाएं। इसके बाद इस तेल को ठंडा करें, छानें और स्टोर करें। फिर इससे हफ्ते में 2-3 बार बालों में मसाज करें और रातभर बालों में लगा रहने दें ।

करी पत्ते विटामिन बी से भरपूर होते हैं। यह बालों के पोर्स में पिगमेंट मेलामाइन को रिस्टोर करने में मदद करते हैं और बालों को सफ़ेद होने से रोकते हैं। साथ ही आपको बता दें कि यह बीटा-केराटिन का भी एक स्रोत है, जो बालों के झड़ने से भी रोकता है।

 

तोरई का तेल

तोरई का तेल

नारियल के तेल में धूप में ड्राई किये हुए तोरई के कुछ हिस्से डालें और और उसे कम से कम तीन चार दिनों के लिए छोड़ दें। जब नारियल के तेल में वह पूरी तरह से मिल जाए, तो उस ऑयल को कुछ देर के लिए उबालें , इसके बाद इस तुरई को निकाल लें और फिर इसे स्टोर कर लें। इस तेल से रात में स्कैल्प और बालों में मसाज करें और फिर आप अपनी पसंद के अनुसार कोई हर्बल शैम्पू चुनें और बालों को धो लें।

लौकी या तोरई में एंजाइम होते हैं, जो कि पिग्मेंट को रिस्टोर करते हैं और बालों की जड़ों में मेलामाइन को पहुंचाते हैं और बालों में मजबूती भी लाते हैं । नारियल का तेल एक नेचुरल कंडीशनर है, जो बिखरे बालों को मैनेजबल बनाने का काम करता है।

 

प्याज का रस

प्याज का रस

दो से तीन चम्मच प्याज के रस में नींबू डाल लें और एक चम्मच ऑलिव ऑयल मिला लें। इससे अपने स्कैल्प और बालों में मसाज करें। एक घंटे के बाद बालों को अच्छी तरह से धो लें।

प्याज के रस में बालों को तेजी से बढ़ाने के गुण होते हैं, साथ ही यह बालों को सफ़ेद होने से भी बचाता है। नींबू के रस की वजह से बालों में चमक तो आती ही है, बालों में अच्छा बाउंस भी आता है। यह एंजाइम और कैटल्स ( CATALASE) को भी बढ़ाता है, जिसकी वजह से बालों में रंगत बढ़ती है।

 

शिकाकाई पाउडर

शिकाकाई पाउडर

शिकाकाई पाउडर और दही का एक पेस्ट बना लें और अपने स्कैल्प पर लगाएं, एक घंटे बाद धो लें। शिकाकाई आयुर्वेद में लंबे समय से इस्तेमाल हो रहा है, बालों को स्वस्थ रखने के लिए खासतौर से इसका उपयोग होता है।

यह एक नेचुरल शैम्पू है और इसमें बालों के सफ़ेद होने की समस्या को कम करने के गुण होते हैं। इसके नियमित इस्तेमाल से आपका स्कैल्प भी हेल्दी बनता है और हेयर ग्रोथ भी अच्छा होता है। इन सारे होम रेमेडी के अलावा, बालों को अच्छा रखने के लिए अच्छी डायट की जरूरत होती है, इसलिए आपको अच्छा डायट भी रखना चाहिए।

 

नेचुरल हेयर डाईज

नेचुरल हेयर डाईज

आपको ऊपर जो भी उपाय बताये गए हैं, उनके अलावा आप घर पर कुछ हर्ब्स के इस्तेमाल से नेचुरल डाई भी तैयार कर सकती हैं। यह आपके केमिकल वाले डाई से अच्छे होते हैं, लेकिन हां, ऐसा नहीं है कि एक ही सेशन में यह आपको लाइट हेयर से डार्क हेयर दे देंगे। आपको इस डाइंग प्रोसेस को कई बार दोहराना होगा, तब जाकर आपको रिजल्ट मिलेंगे। तो आइये इन नेचुरल डाइज के बारे में जान लें।

1. काली मिर्च और नींबू

काली मिर्च और नींबू

केमिकल डाइज का इस्तेमाल छोड़ कर, आप नेचुरल डाई अपनाएं। काली मिर्च बालों के लिए काफी अच्छा होता है, यह बालों में नेचुरल कलर देता है और बालों को तेजी से बढ़ाता भी है।

काली मिर्च और नींबू बालों का नेचुरल हेयर डाई:

आधा कप दही में एक बड़ा चम्मच ताज़ी पिसी हुई काली मिर्च और नींबू का रस मिलाएं। अच्छी तरह मिलाएं और बालों और स्कैल्प में मसाज करें। करीब एक घंटे के लिए छोड़ दें फिर गुनगुने पानी से धो लें। सप्ताह में तीन बार दोहराएं।

2. भृंगराज

भृंगराज

आपने प्राकृतिक बालों के तेल और बालों के उत्पादों में भृंगराज जड़ी बूटी के बारे में पढ़ा होगा। यह प्रकृति में पाए जाने वाले उन कुछ अवयवों में से एक है जो एक टन लाभ प्रदान करता है। बालों को मजबूत और चमकदार बनाने में समय से पहले बुढ़ापा रोकने से लेकर यह सब कुछ करने की क्षमता रखता है।

भृंगराज का नेचुरल हेयर डाई:

भृंगराज को नारियल तेल के साथ, छोटे पैन में गर्म करें, बिल्कुल कम हीट पर और इसे फिर अपने स्कैल्प में लगाएं। एक घंटे तक इसे लगाकर रखें , इसके बाद हल्के गर्म पानी से बाल धो लें, इसे हफ्ते में तीन बार लगाएं।

3. हिबिक्स ( गुड़हल का फूल)

हिबिक्स ( गुड़हल का फूल)

हिबिस्कस में एंटीऑक्सिडेंट और विटामिन मेलेनिन एक वर्णक उत्पन्न करते हैं जो बालों को उसका प्राकृतिक रंग देता है। फूल का उपयोग बालों की कई समस्याओं जैसे रूसी, सूखापन और बालों के झड़ने के इलाज के लिए किया जा सकता है।

हिबिक्स ( गुड़हल का फूल) का नेचुरल हेयर डाई:

गुड़हल के फूल की पत्तियों और उसके फूल को रातभर पानी में छोड़ दें, फिर सुबह उससे अपने बालों को रिंस करें, अगर आपको गुड़हल का फूल नहीं मिलता है, तो आप इसके पाउडर का भी इस्तेमाल कर सकती हैं। आप इसके फूलों को या इसके पाउडर को हिना के साथ मिक्स करके लगा सकती हैं।

 

मिथ 1 : स्ट्रेस या तनाव से बाल सफेद होते हैं

मिथ 1 : स्ट्रेस या तनाव से बाल सफेद होते हैं

स्ट्रेस से बाल सफेद होने लगते हैं, लेकिन यह बालों को सफ़ेद करने की असली वजह नहीं है। ऐसा नहीं है कि आज आपको घर में टेंशन हुई या फिर काम के कारण आपको काफी दबाव है, तो इसकी वजह से अचानक से आपके बाल सफ़ेद होने शुरू हो जाएंगे। हाँ, यह जरूर है कि स्ट्रेस की वजह से आपके बालों के सफ़ेद होने का प्रोसेस तेज हो जाएगा।

 

मिथ 2 : सफ़ेद बालों को प्लकिंग करने से बाल अधिक सफ़ेद होने लगते हैं

मिथ 2 : सफ़ेद बालों को प्लकिंग करने से बाल अधिक सफ़ेद होने लगते हैं

हमने अक्सर अपने दोस्तों, कलीग्स, साथियों और रिश्तेदारों से यह सुना है। हां, यह सच है कि सफेद बालों को प्लकिंग (जड़ से निकालना) करना, अच्छा नहीं है, लेकिन इसका बालों के सफेद होने से कोई लेना-देना नहीं है । जब आप अपने बाल निकालते हैं, तो इससे फॉलिकल कमजोर हो सकता है और इस प्रक्रिया में कोलैटरल डैमेज हो सकता है। और अगर गलती से आप उस बाल को तोड़ दें, जो ग्रे नहीं है, तो उसके स्थान पर एक फ्रेश ( सफ़ेद) ग्रे बाल आ सकता है ।

 

मिथ 3 : आपकी लाइफस्टाइल से बालों के सफ़ेद होने से कोई लेना-देना नहीं है

मिथ 3 : आपकी लाइफस्टाइल से बालों के सफ़ेद होने से कोई लेना-देना नहीं है

यह सच है कि स्मोकिंग से बाल सफ़ेद हो सकते हैं। इसके अलावा शरीर में विटामिन बी, फोलिक एसिड और बायोटिन की कमी से भी ऐसा हो सकता है और इससे बाल जल्दी सफ़ेद होने लगते हैं। लेकिन आप अच्छा लाइफस्टाइल करने से भी अपने सफ़ेद बालों को ब्लैक नहीं कर सकते हैं।

 

मिथ 4 : सफ़ेद बाल तुरंत टूटने लगते हैं

मिथ 4 : सफ़ेद बाल तुरंत टूटने लगते हैं

सफ़ेद बाल या ग्रे हेयर छूने में काफी रफ और खुरदुरे लग सकते हैं। लेकिन बालों का टेक्सचर कभी भी बदलता नहीं है। होता यह है कि जब मेलेनिन प्रोड्यूस करने वाली सेल्स, स्टीम से निकलती है तो, बालों के फॉलिकल्स कम सीबम का उत्पादन करने लगते हैं। चूंकि आपकी उम्र बढ़ने के साथ, आपका स्कैल्प कम नेचुरल ऑयल उत्पन्न करने लगता है, इसलिए आपके सफ़ेद बाल अधिक ड्राई नज़र आने लगते हैं।

 

बालों को सफ़ेद होने से बचाने के लिए टिप्स

बालों को सफ़ेद होने से बचाने के लिए टिप्स

आइये, अब जब हमने सफ़ेद बालों से जुड़े मिथ्स के बारे में समझ लिया है| तो घरेलू उपाय और नेचुरल हेयर डाइज के अलावा और कौन से तरीके अपनाये जा सकते हैं, आइये जानें।

  • बालों को धोने के लिए गुनगुने पानी का ही इस्तेमाल करें
  • बालों को यूवी किरणों से बचाने के लिए स्कार्फ या टोपी पहनें
  • हीट स्टाइलिंग टूल्स और केमिकल ट्रीटमेंट्स अधिक न आजमाएं
  • कैफीनयुक्त ड्रिंक्स और धूम्रपान से बचें
  • स्वस्थ और पौष्टिक भोजन करें
  • तनाव कम करने के लिए नियमित रूप से व्यायाम और ध्यान करे
 

बालों को सफ़ेद होने से बचाने से जुड़े कुछ जरूरी सवाल-जवाब

बालों को सफ़ेद होने से बचाने से जुड़े कुछ जरूरी सवाल-जवाब

Q. समय से पहले बालों के सफ़ेद होने के कारण क्या हैं ?

A. अगर आपके बाल 25 साल की उम्र से ही सफेद हो रहे हैं, तो इसका मतलब है कि आपके जेनटिक्स इश्यू है। आपके हेयर फॉलिकल्स में पिग्मेंट सेल्स हैं, जो कि मेलेनिन प्रोड्यूस करते हैं।  ये मेलेनिन आपके रंग को लॉक करते हैं और जब आपकी बॉडी से मेलेनिन जेनेरेट होना बंद हो जाता है, तब आपके बाल सफ़ेद होने शुरू हो जाते हैं।

Q. क्या आप अपने सफ़ेद बालों को नेचुरल तरीके से फिर से काला कर सकती हैं?

A. हाँ, अगर सही तरीके से इसका इलाज हो तो, आपको एक अच्छा डायट लेना और पौष्टिक आहार युक्त डायट लेना जरूरी है, साथ ही सही हेयर केयर लेना भी जरूरी है।  घरेलू नुस्खे भी काम आते हैं, लेकिन हर व्यक्ति पर इन रेमेडीज के रिजल्ट अलग हो सकते हैं।

Q. बालों का सफ़ेद होना, किस उम्र के लोगों के लिए बेहद सामान्य बात है?

A. 50 प्रतिशत लोगों के बाल 50 की उम्र से सफ़ेद होने शुरू हो जाते हैं।  पुरुषों के बाल महिलाओं से पहले सफ़ेद होते हैं।  महिलाएं 35 साल की उम्र से ध्यान देना शुरू करती हैं कि उनके बाल सफ़ेद हो रहे हैं और पुरुषों के बाल 30 साल की उम्र से सफ़ेद होने शुरू हो जाते हैं।

Q. बालों का सफ़ेद होना क्या यह दर्शाता है कि आपकी लाइफ स्पेन कम है ?

A. सफेद बालों का मतलब यह नहीं है कि आपकी उम्र कम है। कई बार आपके बाल वाकई में  सफेद होने लगते हैं, जब बालों के पोर्स कम मेलेनिन का प्रोडक्शन करते हैं, क्योंकि मेलेनिन ही बालों में रंगत देता है । आपकी उम्र कम होना, आपकी फैमिली हिस्ट्री से जुड़ा होता है। इसलिए आप अपने पेरेंट्स या ग्रैंड पेरेंट्स से इसके बारे में पूछ सकते हैं।

Q. क्या सफेद बाल खराब सेहत की निशानी हैं?

A. अगर बेहद कम उम्र में ही, बाल सफ़ेद दिखने लगें, तो यह  दिखना स्वास्थ्य समस्याओं का संकेत हो सकता है जैसे कि विटामिन बी 12 की कमी, थायराइड, विटिलिगो और एलोपेसिया एरीटा, यह एक तरह का डिसऑर्डर है , जहां आप अचानक बालों के पैच खो देते हैं।

यही आर्टिकल इंग्लिश में पढ़ने के लिए यहाँ क्लीक करे:

8 Home Remedies to Darken Grey Hair